भारत की चीन पर भी नजर, अरुणाचल में मजबूत की वायुसेना

नई दिल्ली (2 अक्टूबर): भारतीय सेना के द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक करने के बाद चीन की तरफ से संभावित खतरे को देखते हुए वायुसेना आक्रामक तरीके से देश के पूर्वी सेक्टर खासकर अरुणाचल प्रदेश में अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार कर रही है।

वायुसेना की पूर्वी एयर कमांड के प्रमुख हरि कुमार ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश के सात अडवांस लैंडिंग ग्राउंड्स (ALGs) में से पांच ऑपरेशनल हो चुके हैं जबकि बाकी के दो इस साल के अंत तक काम करने लगेंगे। उन्होंने कहा कि इसके अलावा भी वायुसेना पूर्वी क्षेत्र में अपनी क्षमताओं में भी तेजी से वृद्धि कर रही है।

कुमार ने कहा, 'पूर्वी क्षेत्र में अन्य क्षेत्रों के मुकाबले इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास बहुत धीमा रहा है। हम इस क्षेत्र में अपनी क्षमताएं बढ़ाना चाहते हैं। हालांकि, यहां हम किसी अपने दुश्मन या प्रतिद्वंदी के रूप किसी खास देश को नहीं देख रहे हैं। मिग-27 और हॉक स्क्वेड्रन्स के अलावा राफेल की डील के बाद पूर्वी एयर कमांड में हमारी क्षमता बढ़ेगी।'

पाक प्रायोजित सीमा पार आतंकवाद पर चिंता जताते हुए कुमार ने कहा, 'अगर आप पश्चिमी सेक्टर की तरफ देखें तो पाकिस्तान हमारी सेना की ताकत के मुकाबले नहीं टिक पाता इसीलिए उसने ऐसी अपरंपरागत लड़ाई के तरीकों को अपनी स्टेट पॉलिसी बनाया है।'