हवाई सफर होगा महंगा, सरकार लगाएगी लेवी

नई दिल्ली (11 नवंबर): आने वाले दिनों में हवाई सफर महंगा होने वाला है। सरकार ने फ्लाइटों की दूरी के आधार पर लेवी लगाने का फैसला लिया है। 1000 किमी. तक की दूरी वाली फ्लाइटों पर 7,500 रुपये और 1500 किमी. से ज्यादा दूरी की फ्लाइटों पर 8,500 रुपये कर लगाएगी। यह कदम मोदी सरकार की देश के सभी हिस्सों को आपस में हवाई नेटवर्क से जोड़ने की योजना के तहत उठाया गया है। लेवी से जुटाए गए फंड का इस्तेमाल इस योजना के लिए होगा। नागरिक उड़यन सचिव ने बताया कि सरकार रीजनल एयर कनेक्टिविटी स्कीम के तहत बड़े रूटों पर 8,500 रुपये उपकर लगाएगी।


शुक्रवार को एविएशन सेक्रेटरी आरएन चौबे ने इसका एलान किया। यह लेवी 1 दिसंबर से ली जाएगी। सरकार छोटे शहरों के एक घंटे तक के सफर वाले रूट्स के लिए सस्ती हवाई स्कीम UDAN लेकर आई है, जो जनवरी से लागू होगी। पहले ही यह चर्चा थी कि बड़े रूट्स के बीच हवाई सफर से इस पर होने वाले घाटे की भरपाई होगी। इसलिए रीजनल कनेक्टिविटी फंड बनाया गया है। लेवी लगाने से डोमेस्टिक के साथ-साथ इंटरनेशनल हवाई सफर भी महंगा होने की आशंका है।

ऐसे लगेगी लेवी...
- 1000 किमी. तक के रूट पर सरकार 7500 रुपए तक लेवी लेगी
- 1000-1500 किमी. तक के फ्लाइट्स रूट पर 8000 रुपए लेवी देनी होगी
- 1500 किमी. से ज्यादा दूरी वाले रूट पर 8500 रुपए लेवी वसूली जाएगी
- इससे घरेलू फ्लाइट्स में सफर भी महंगा हो जाएगा

इससे इकट्ठा होने वाला पैसा रीजनल कनेक्टिविटी फंड में डाला जाएगा, जिससे रियायती किराए वाली फ्लाइट्स के घाटे की भरपाई होगी। हालांकि, एयरलाइन्स इसका विरोध कर रही हैं। उनका कहना है कि लंबे रूट वाले पैसेंजर्स पर टैक्स का एक और बोझ डाला जा रहा है।

सरकार क्यों लाईUDAN स्कीम ?
- UDAN स्कीम के तहत उन शहरों के बीच फ्लाइट्स चलाई जाएंगी, जहां से या तो फ्लाइट्स का आना-जाना नहीं है या काफी कम हैं
- सरकार चार साल में 4000 करोड़ रुपए खर्च करके ऐसे ही 50 एयरपोर्ट को फिर चालू करेगी
- इससे घरेलू एविएशन सेक्टर को बढ़ावा मिलेगा। फिलहाल, इस सेक्टर में 20 फीसदी सालाना की बढ़ोत्तरी हो रही है
- देश में अभी 394 एयरपोर्ट ऐसे हैं, जहां कोई फ्लाइट सर्विस नहीं है। 16 एयरपोर्ट पर बहुत कम फ्लाइट हैं

UDAN स्कीम से लोगों को क्या होगा फायदा ?
- यह स्कीम शुरू होने से देश के छोटे और कम दूरी वाले शहरों के बीच एयर कनेक्टिविटी बढ़ेगी
- ट्रेन के फर्स्ट या सेकंड क्लास कोच में सफर करने वालों को लगभग उतने ही किराए में हवाई सफर की सुविधा मिल जाएगी। इससे उनका समय बचेगा
- आम आदमी का हवाई सफर का सपना पूरा हो सकेगा
- टूरिस्ट्स को सड़क या ट्रेन रूट के लंबे और थकान भरे सफर से छुटकारा मिलेगा

देश के जिन एयरपोर्ट्स पर UDAN स्कीम शुरू हो सकती है, उनमें राजस्थान का बीकानेर और जैसलमेर, गुजरात का भावनगर और जामनगर, पंजाब का बठिंडा और पठानकोट, उत्तर प्रदेश का इलाहाबाद और लखीमपुर और असम का जोरहट शामिल है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय के मुताबिक, एयरलाइन्स से उन रूट्स की बोली लगाने को कहा जाएगा जो छोटे शहरों को बड़े शहरों से कनेक्ट करते हैं। देश में कुल मिलाकर 18 बड़े एयर रूट हैं। इनमें दिल्ली से 5, मुंबई से 3, कोलकाता, हैदराबाद-बेंगलुरु से 2-2, चेन्नई-इंदौर-कोच्चि-पोरबंदर से 1-1 फ्लाइट्स 1 घंटे से कम के सफर की हैं।