3 दिन बंद रहेंगे बैंक, 8 को हड़ताल, 9-10 को साप्ताहिक अवकाश

नई दिल्ली (7 जनवरी) : ऑल इंडिया बैंक एसोसिएशन (एआईबीईए) ने 8 जनवरी को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। ये हड़ताल भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पांच सहयोगी बैंकों द्वारा अपने-अपने कर्मचारी संघों के साथ किए गए समझौते का उल्लंघन किए जाने के विरोध में की जा रही है।  

बता दें कि देश के सबसे बड़े बैंक के पांच सहयोगी बैंक हैं- स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ ट्रावनकोर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद और स्टेट बैंक ऑफ पटियाला। 

एआईबीईए ने एक बयान में कहा कि एसबीआई प्रबंधन की अनुचित श्रम नीतियों के जारी रहने के विरोध में आंदोलन किया जा रहा है। एसबीआई प्रबंधन सहयोगी बैंकों पर अपनी सेवा शर्तें थोपना चाहता है। 

यूनियन एसबीआई की सेवा शर्तों और करियर प्रोन्नयन नियमों को सहयोगी बैंकों पर थोपने के खिलाफ है। 

यूनियन ने सहयोगी बैंकों को एसबीआई से अलग करने की मांग भी की है। एआईबीईए ने पहले 1 और 2 दिसंबर को इस तरह की हड़ताल की योजना बनाई थी। लेकिन 23 नवंबर को हुई एसबीआई प्रबंधन की ओर से करियन प्रोन्नयन योजना को स्थगित किए जाने पर सहमत होने के बाद हड़ताल टाल दी गई थी। साथ ही यूनियनों के साथ द्विपक्षीय वार्ता करने की बात की गई थी। लेकिन द्विपक्षीय वार्ता में कोई नतीजा नहीं निकल सका। इसलिए एआईबीईए ने शुक्रवार को हड़ताल रखने का आह्वान किया। एआईबीईए के एक नेता के मुताबिक शुक्रवार को करीब 3,40,000 बैंककर्मी हड़ताल पर रहेंगे। 

हड़ताल का व्यापक प्रभाव पड़ेगा, क्योंकि अगले दो दिन 9-10 जनवरी को साप्ताहिक छुट्टी भी है। एआईबीईए के महासचिव सी एच वेंकटाचलम के मुताबिक मजबूर होकर हड़ताल पर जाना पड़ रहा है। शाखा कार्यालय बंद नहीं होंगे, लेकिन कर्मचारियों के काम पर ना जाने से सामान्य काम-काज प्रभावित होगा।"