अयोध्या में संघ की रैली, इकबाल अंसारी बोले, 25 नवंबर से पहले सुरक्षा नहीं दी तो छोड़ देंगे अयोध्या

                                                       Pic Courtesy: ANI

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 15 नवंबर ): अयोध्या में राम मंदिर को लेकर बढ़ती हलचल और 25 नवंबर को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की रैली पर बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी ने चिंता जाहिर की है। अंसारी ने 1992 को याद करते हुए कहा है कि अगर 25 नवंबर से पहले सुरक्षा नहीं बढ़ाई गई तो वह अयोध्या से पलायन करेंगे। अंसारी ने हिंदू संगठनों की रैली से पहले अयोध्या से पलायन की चेतावनी दी है।राम मंदिर निर्माण को लेकर होने वाले आरएसएस और वीएचपी के कार्यक्रम पर मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि अयोध्या का मुस्लिम समुदाय अगर ऐसी ही दहशत में रहा, तो मुसलमान अपनी जान की हिफाजत के लिए अयोध्या छोड़ने को मजबूर हो जाएंगे।बता दें कि इकबाल अंसारी बाबरी मस्जिद के मुद्दई हैं। अंसारी ने भीड़ को देखते हुए सुरक्षा न बढ़ाने पर दी चेतावनी है। उन्होंने कहा, '1992 में भी ऐसे ही भीड़ बढ़ी थी। कई मस्जिदें तोड़ी गई थीं और मकान जलाए गए थे।' उन्होंने कहा कि अयोध्या में साल 1992 की तरह का एक बार फिर से माहौल बनाया जा रहा है। संघ और वीएचपी ने ऐसे ही भीड़ साल 1992 में इकट्ठा की थी। उस समय कोई भी मुस्लिम मस्जिद बचाने नहीं गया था। इसके बावजूद मुस्लिम समाज के घर और दुकान लूटे गए थे।सुरक्षा की मांग करते हुए अंसारी ने कहा, 'अगर अयोध्या में भीड़ बढ़ रही है तो हमारी और मुसलमानों की सुरक्षा बढ़ाई जाए। सुरक्षा नहीं बढ़ाई गई तो हम 25 तारीख से पहले अयोध्या छोड़ देंगे।गौरतलब है कि 25 नवंबर को शिवसेना और विश्व हिंदू परिषद के कार्यक्रम में लाखों लोगों की भीड़ जुटने की संभावना जताई जा रही है। इसी के चलते इकबाल अंसारी ने प्रशासन से सुरक्षा की मांग की है।आपको यह भी बता दें कि राम मंदिर के मुद्दे पर संतों से चर्चा के लिए शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे भी अयोध्या पहुंचने वाले हैं। ठीक इसी दिन विश्व हिंदू परिषद ने भी अपने कार्यक्रम में लाखों लोगों के जुटने का दावा किया है।