अगस्टा वेस्टलैंड मामले में भारत को बड़ी कामयाबी, बिचौलिया मिशेल लाया गया दिल्ली

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (5 दिसंबर): अगस्ता वेस्ट लैंड मामले में भारत सरकार को बड़ी कामयाबी मिली है। अगस्ता वेस्ट लैंड में मुख्य आरोपी और वॉन्टेड क्रिश्चियन मिशल को देर रात दुबई से भारत लाया गया। मिशेल का प्रत्यर्पण को बड़ी सफलता माना जा रहा है, क्योंकि वो इस मामले में कई बड़े राज उगल सकता है। जैसे ही मिशेल का विमान एयरपोर्ट पर उतरा सीबीआई की टीम ने उसे हिरासत में ले लिया। एयरपोर्ट पर ही डॉक्टरों की एक टीम ने मिशेल का मेडिकल किया और फिर कड़ी सुरक्षा के बीच मिशेल को सीबीआई हेडक्वार्टर लाया गया। सीबीआई की एक टीम हेडक्वाटर में पूरी रात मिशेल से पूछताछ करती रही। दुबई की कोर्ट ने 2 सितंबर 2018 को क्रिश्चियन मिशेल को भारत को प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया था। क्रिश्चियन मिशेल के प्रत्यर्पण को लेकर दुबई कोर्ट का आदेश केंद्र की एनडीए सरकार के लिए बड़ी कामयाबी से कम नहीं है। इसके लिए NSA अजीत डोभाल ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था।

आपको बता दें के अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला यूपीए सरकार के दौरान सामने आया था। जांच एजेंसियों को मिशेल की लंबे समय से तलाश थी। जिससे पूछताछ में उन लोगों के नामों का खुलासा हो सकता है, जिन्हें फरवरी 2010 में हुई 3666 करोड़ रुपए की इस हेलिकॉप्टर डील में मोटी रिश्वत दी गई। 350 करोड़ रुपए की रिश्वत देने का खुलासा हुआ था। ब्रिटेन के नागरिक क्रिश्चियन मिशेल को यूएई में फरवरी 2017 में गिरफ्तार किया गया था। तभी से प्रत्यर्पण की कोशिशें चल रही थीं। सीबीआई और ईडी के अधिकारियों ने इसको लेकर कई बार यूएई का दौरा किया और यूएई के अधिकारियों से लेकर कोर्ट तक में घोटाले से जुड़े दस्तावेज और सबूतों को सामने रखा।आरोपों के मुताबिक  ब्रिटिश-इटैलियन कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड ने भारत में नेताओं,  रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों, नौकरशाहों और एअरफोर्स के तब के चीफ रहे एसपी त्यागी सहित दूसरे अधिकारियों को करीब 350 करोड़ रुपए रिश्वत के रुप में दिए।  इस करार के जरिए अगस्ता वेस्टलैंड को वीवीआईपी लोगों के लिए 12 हेलिकॉप्टर की खरीद होनी थी। जांच के दौरान खुलासा हुआ कि इस डील में रिश्वत लेने वालों के लिए कोड वर्ड तय थे।  मिशेल को अलग-अलग नामों वाला नोट रिश्वत देने के लिए मिला था। जांच के दौरान अलग-अलग लोगों के लिए  'एपी', 'पीओएल', 'बीयूआर', और 'एएफ' नाम के कोडवर्ड सामने आए थे। अब ये केवल मिशेल ही बता सकता है कि आखिर ये किन लोगों के नाम थे।  क्रिश्चियन मिशेल तीन बिचौलियों में से एक है। दो और बिचौलिए गुईदो हश्के और कार्लो गेरोसा के खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस जारी है। बीजेपी का लगातार आरोप रहा है कि अगस्ता वेस्टलैंड डील में कांग्रेस नेताओं को घूस की रकम दी गई। मौजूदा वक्त में राफ़ेल डील, विजय माल्या, मेहुल चौकसी और नीरव मोदी के देश से फरार होने के मामले पर कांग्रेस लगातार मोदी सरकार को कठघरे में खड़े कर रही है। ऐसे में अगस्ता वेस्टलैंड के मामले को फिर बड़ा मुद्दा बनाकर बीजेपी कांग्रेस पर जवाबी हमला बोल सकती है।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...