समाजवादी पार्टी के बाद अब बीजेपी में उठे बगावत के सुर

नई दिल्ली (2 जनवरी): यूपी चुनाव के मद्देनजर सोमवार को लखनऊ में पीएम मोदी ने रामबाई आंबेडकर मैदान में आयोजित महारैली  के बाद बीजेपी में बगावत के सुर उठने लगे हैं। लखनऊ में पीएम मोदी का साथ देने के लिए भाजपा प्रमुख अमित शाह और गृहमंत्री राजनाथ सिंह समेत कई दिग्गज नेता मौजूद थे। इस रैली के बाद एक बार फिर भाजपा में यूपी सीएम कैंडिडेट के लिए आवाज उठी है। उत्तर प्रदेश के बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने नव वर्ष पर एक पोस्टर जारी कर गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री कैंडिडेट घोषित करने की मांग की। अल्पसंख्यक मोर्चा ने चेतावनी भी दी कि अगर उनको सीएम कैंडिडेट बनाने का भाजपा ऐलान नहीं करती है तो मुस्लिम समाज अलग संगठन बनाकर योगी आदित्यनाथ के साथ खड़ा होगा। सोमवार को बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने हजरत नक्को अली शाह बाबा के मजार पर चादरपोशी कर योगी को सीएम कैंडिडेट बनाने की मांग को लेकर पोस्टर जारी किया।

इस पोस्टर में लिखा है कि मुस्लिम समाज की एक मांग, योगी नहीं तो बीजेपी नहीं। यही नहीं, योगी आदित्यनाथ को छत्रपति शिवाजी के रूप में दर्शाया गया है। वहीं पोस्टर में ये नारा भी दिया गया है कि ‘अब न करो देर, कहीं अंधेर न हो जाए, जल्द करो योगीजी को सीएम कैंडिडेट घोषित, कहीं देर न हो जाये।’ योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री कैंडिडेट घोषित करने को लेकर बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश कार्यकारणी सदस्य इरफ़ान अहमद ने कहा, ‘आज हमने नक्को शाह बाबा के मजार पर चादर पोशी की और दुआ मांगी। विधानसभा 2017 के चुनाव में योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री कैंडिडेट घोषित किया जाय, हमारी पार्टी नेतृत्व से यही मांग है। अगर ऐसा नहीं होता है तो हम मुस्लिम समाज, बीजेपी से अलग होकर योगी आदित्यनाथ का समर्थन करेंगे।