ईदगाह तोड़कर मंदिर बनवा रहे हैं मुसलमान !

नई दिल्ली (12 सितंबर): उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले के नवाबगंज ब्लॉक से महज 9 किलोमीटर दूर अकबरपुर गांव के मुसलमान करीब 250 साल पुरानी ईदगाह को हटाकर हिन्दुओं के लिए पूजा स्थल बनवाने की तैयारी कर रहे हैं। सोमवार को गांव में उस समय खुशी छा गई जब ईदगाह कमिटी की बैठक में दोनों पक्षों ने इस फैसले पर आपसी सहमति जताई।

इस भाइचारे के जज्बे को देखते हुए एडीएम ने तहसील प्रशासन को जमीन की पैमाइश के निर्देश भी दे दिए है। ईदगाह कमिटी के अध्यक्ष अब्दुल राजिक उस्मानी ने बताया, 'ईदगाह के पास एक पुराना पीपल का पेड़ है। इस पेड़ में हिन्दुओं की गहरी आस्था को देखते हुए ईदगाह हटाने का फैसला लिया गया है।' हिन्दू तीज-त्योहारों पर यहां के लोग पीपल के पेड़ के नीचे पूजा-पाठ और भंडारे का कार्यक्रम करते है।

ईदगाह की दीवार से पीपल का पेड़ सट जाने के कारण यहां आने वाले हिन्दुओं को पूजा करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अब्दुल ने कहा कि पूजा करने में दिक्कत न हो इसलिए ईदगाह की दीवार को तोड़कर 20 फीट जमीन छोड़ दी जाएगी, जिससे वे पीपल की पेड़ की परिक्रमा कर अपनी पूजा को सफल कर सकें। उन्होंने बताया कि इस काम के लिए अभी तक ईदगाह कमिटी ने डेढ़ लाख रूपए चंदा जुटाया है। जमीन की पैमाइश के बाद चंदे के पैसे से ईदगाह की दीवार तोड़कर पीपल के पेड़ से दूर नई दीवार का निर्माण कराया जाएगा।