सरकार की सफाई- PPF पर टैक्स की छूट जारी रहेगी

नई दिल्ली (1 मार्च): ईपीएफ निकालने पर टैक्स के सरकार के फैसले का चारो तरफ विरोध हो रहा है। यही कारण है कि सरकार के राजस्व सचिव सामने आए और मंगलवार को सफाई में कहा कि पीएफ का 60% कॉन्ट्रिब्यूशन नहीं, बल्कि उस पर मिलने वाला इंटरेस्ट टैक्सेबल होगा। इधर मजूदर संगठनों ने सरकार के इस फैसले के विरोध का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ईपीएफ निकालने पर लगने वाले टैक्स का विरोध किया है।

केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा- लोगों में बहुत गुस्सा है। अमीरों का लोन माफ किया गया है। जबकि गरीबों के ईपीएफ पर टैक्स लगाया गया है। वहीं काले धने वालों के लिए भी छूट दी गई है।

मजदूर यूनियन AITUC ने किया विरोध। आरएसएस का मजूदर संगठन भी विरोध में उतरा। दरअसल सरकार ने पीएफ निकालने पर टैक्स तो लगाया है। पहले इस पर टैक्स नहीं लगता था।

नए नियम के मुताबिक 1 अप्रैल से पीएफ अकाउंट में जमा होने वाली रकम को निकालने पर 60 फीसदी रकम पर टैक्स देना होगा। सरकार के इस फैसले का करीब 6 करोड़ लोगों पर असर होगा। जानकार इसे नौकरीपेशा लोगों के लिए बड़ा झटका मान रहे हैं।