केरल में हुए भयानक हादसे के बाद से मंदिर के अधिकारी लापता

नई दिल्ली (10 अप्रैल): केरल के पुत्तिंगल देवी मंदिर में रविवार तड़के अवैध रूप से की गई आतिशबाजी के कारण लगी भीषण आग के बाद से मंदिर के वरिष्ठ अधिकारी कथित तौर पर लापता हैं। 

रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस ने इस मामले में मंदिर के वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है। आतिशबाजी कार्यक्रम का प्रबंध करने वाले बाप-बेटे की जोड़ी सुरेंद्रन और उमेश के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है। तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में दोनों का इलाज चल रहा है।

तिरुवनंतपुरम से लगभग 60 किलोमीटर दूर इस मंदिर में हर साल अप्रैल में आने वाले मलयाली महीने मीनम के दौरान आतिशबाजी आयोजित की जाती है। मंदिर के समीप रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि पिछले साल तक आतिशबाजी में दो समूहों के बीच प्रतियोगिता होती थी। व्यक्ति ने कहा, इस बार अनुमति नहीं दी गई थी, लेकिन शनिवार को बांटे गए पर्चों में सर्वश्रेष्ठ आतिशबाजी प्रदर्शन के लिए इनाम का जिक्र किया गया था।

बताया जा रहा है, मंदिर से जुड़े सभी कर्मकांड समाप्त होने के बाद रात को मंदिर बंद हो जाता है और उसके बाद सामान्य तौर पर रात लगभग 10.30 बजे आतिशबाजी शुरू होती है। हाथी भी मंदिर के उत्सव का हिस्सा होते हैं, लेकिन आतिशबाजी शुरू करने से पहले उन्हें इस जगह से हटा दिया जाता है। एक श्रद्धालु के हवाले से बताया गया कि आतिशबाजी कार्यक्रम रात लगभग 11 बजे शुरू होता है। यह अगले दिन तड़के लगभग चार बजे तक जारी रहता है। रविवार का हादसा कार्यक्रम समाप्त होने से लगभग 30 मिनट पहले हुआ। शनिवार को मंदिर परिसर में और उसके आसपास लगभग 15,000 लोग थे।