शौहर ने स्पीड पोस्ट से कहा- 'तलाक...तलाक...तलाक', बीवी पहुंची सुप्रीम कोर्ट

जयपुर (18 मई) :  25 वर्षीय आफरीन रहमान को हाल में एक स्पीड पोस्ट मिली। आफरीन ने इसे खोला तो उनके पैरों से ज़मीन खिसक गई। इस स्पीड पोस्ट में आफरीन के पति ने तलाक का एलान किया था। सही सही कहें तो स्पीड पोस्ट में था- तलाक...तलाक...तलाक...।

आफरीन झटके से कुछ संभली तो वे इस्लाम के 'तीन तलाक' के प्रावधान को चुनौती देने के लिए बुधवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंची। 'तलाक-ए-बिदत'  के तहत मुस्लिम पुरुष पत्नी को तीन बार तलाक कह कर तलाक दे सकता है।

आफरीन के मुताबिक उनकी शादी 2014 में मैट्रीमोनियल पोर्टल के जरिए हुई थी और दो-तीन महीनों में ही ससुराल वालों ने दहेज की मांग को लेकर मानसिक तौर पर उत्पीड़ित करना शुरू कर दिया।

आफरीन ने कहा, बाद में उन्होंने मुझे मारना-पीटना शुरू कर दिया। साथ ही घर छोड़ने के लिए कहा। मेरे पास मायके आने के सिवा और कोई रास्ता नहीं था। मायके में ही मुझे तलाक के एलान वाला स्पीड पोस्ट मिला। ये पूरी तरह गलत, अनुचित और अस्वीकार्य है। मैंने इस मामले में दखल के लिए सुप्रीम कोर्ट से गुहार करते हुए याचिका दाखिल की है।

ऑल इंडिया मुस्लिम महिला पर्सनल लॉ बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अंबर 'तीन तलाक'  को खत्म करने की मांग कर रही हैं। केंद्र ने देश में महिलाओं की स्थिति की समीक्षा के लिए उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इसने मौखिक, इकतरफ़ा या तीन तलाक पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की है।