'अरुणाचल और उत्तराखण्ड के बाद अब मणिपुर की कॉंग्रेस सरकार में विद्रोह'

नई दिल्ली (28 मार्च): उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद केंद्र और कांग्रेस के बीच जंग और तेज़ हो गयी है। अरुणाचल प्रदेश और उत्तराखंड के बाद अब कांग्रेस की चिंता मणिपुर को लेकर बढ़ गई है। कांग्रेस हाईकमान अब मणिपुर को लेकर सतर्क हो गया है क्योंकि यहां के असंतुष्ट विधायक मुख्य मंत्री ओकराम इबोबी सिंह के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।

राज्य के कुछ मंत्रियों को हटाने पर बागी विधायकों ने विरोध किया था और उन्होंने मांग की थी कि मुख्यमंत्री बागी विधायकों को शामिल कर मंत्रिमंडल का विस्तार करें। इसके बाद एआईसीसी ने इबोबी सिंह को दिल्ली बुलाया था। अरुणाचल प्रदेश और उत्तराखंड में हस्र देखने के बाद अब एआईसीसी मणिपुर में इस तरह का विवाद नहीं चाहती और इस वजह से बागी विधायकों के साथ समझौता करने की कोशिश की जा रही है। हालांकि एआईसीसी के इंचार्ज वी नारायणसामी ने दावा किया कि हमने मणिपुर में मुद्दों को सुलझा लिया है।