अफगानिस्तान की पहली महिला पायलट को जान का खतरा, अमेरिका से मांगी शरण

वॉशिंगटन (26 दिसंबर): अफगानिस्तान एयरफोर्स की पहली महिला पायलट ने अमेरिका से शरण मांगी है। महिला पायलट कैप्टन निलोफर रहमानी साल अपनी जान को खतरा होने की वजह से अमेरिका से शरण मांगी है।

 कैप्टन निलोफर रहमानी साल 2013 अपने परिवार के विरोध के बावजूद टेक्सस में पायलट ट्रेनिंग प्रोग्राम जॉइन किया था। निलोफर कई बार जान से मारने की धमकी मिलने के बावजूद ट्रेनिंग पूरी की। लेकिन अब निलोफर का कहना है कि उनके देश में हालात लगातार बदतर होती जा रही हैं और अब उनके पास शरण मांगने के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचा है।


निलोफर ने वॉल स्ट्रीट जर्नल को कहा कि वो अपने देश के लिए उड़ना पसंद करेंगी, और वो हमेशा यही करना चाहती थी। लेकिन उन्हें अपनी जान जाने का डर है। निलोफर ने कहा कि अगर उन्हें शरण मिल जाती है तो भी वह यूएस एयरफोर्स के साथ या फिर कमर्शियल पायलट के तौर पर प्लेन उड़ाना जारी रखेंगी। बता दें कि रहमानी को यूएस स्टेट डिपार्टमेंट के इंटरनैशनल वीमिन ऑफ करेज अवॉर्ड 2015 से नवाजा जा चुका है।