तालिबान आतंकियों को शरण और संरक्षण देता रहेगा पाकिस्तान !

नई दिल्ली (5 अप्रैल): पाकिस्तान अफगानिस्तान तालिबान को शरण और संऱक्षण दोनों देता रहेगा। पाकिस्तान अफगानिस्तान तालिबान को अफगानिस्तान के खिलाफ नहीं बल्कि भारत के खिलाफ इस्तेमाल करता है। ये बात अमेरिका के एक पूर्व राजनयिक ने कही है। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान अफगान-तालिबान को अपनी 'मूल रणनीतिक संपत्ति' मानता है। अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए अमेरिका के पूर्व विशेष प्रतिनिधि रिचर्ड ओल्सन ने कल कहा कि उन्हें यकीन है कि इस्लामाबाद तालिबान को नहीं छोड़ेगा क्योंकि पाकिस्तानी सेना, खुफिया एजेंसियों के लिए अफगानिस्तान नीति 'भारत के खिलाफ भू-रणनीतिक पैंतरेबाजी' की है।

वाशिंगटन डीसी स्थित थिंक टैंक स्टिमसन इंस्टीट्यूट में अफगानिस्तान और पाकिस्तान पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा, ''चूंकि वो भारत को अपने अस्तित्व के लिए एक खतरा मानते हैं ऐसे में वो भारतके खिलाफ कुछ भी करने को तैयार हैं।''

उन्होंने कहा, ''इसलिए मुझे लगता है कि हमें यह तय मानना चाहिए कि पाकिस्तान तालिबान का समर्थन जारी रखेगा और हमें इस मामले में अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रयास करना होगा।'' उन्होंने कहा कि यह सीधे तौर पर भारत से जुड़ा है।