WATCH: बेसन में मिलावट का गोरखधंधा...

श्रीवत्सन, जयपुर (29 जुलाई): रिमझिम बरसात हो रही हो तो किसका मन नहीं होता चाय के साथ गर्मागरम बेसन के पकौड़े खाने का। अगर आप भी बेसन के पकौड़े, बेसन की कढ़ी या बेसन के हलवे के शौकीन हैं तो ये खबर आपके लिए ही है। चना दाल महंगी क्या हुई बाजार में नकली, मिलावटी और जहरीला बेसन आ गया।

जी हां, बरसात के मौसम में गर्मागरम बेसन के पकौड़ों की फरमाइश आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जब जयपुर में बेसन की एक बड़ी फैक्ट्री पर छापा मारा तो पीले बेसन का काले खेल का पर्दाफाश हो गया। यहां धड़ल्ले से नकली बेसन बनाया और बेचा जा रहा था। जो बेसन जयपुर के बाजार में 118 रुपये किलो की दर से बिक रहा है। इस फैक्ट्री में वो बेसन महज़ 55 रुपये किलो की लागत से तैयार हो जाता था। यानी हर एक किलो बेसन पर बेसन के मुनाफाखोर 63 रुपये का शुद्ध मुनाफा कमा रहे थे और आपकी किचन और थाली तक पहुंच रहा था नकली व सेहत के लिए नुकसान देने वाला जहरीला बेसन।

इस बेसन में सस्ती मिलने वाली खराब क्वालिटी की कनाडा का पीली मटर मिलाई जा रही थी। इसके अलावा बेसन में सूजी, रवा और खराब क्वालिटी के मक्के के आटे को बेसन ने नाम पर मिलाकर बेचा जा रहा था। जयपुर की इस फैक्ट्री में भी हज़ारों किलो नकली बेसन बनाने का सामान था। यहां एक किलो बेसन बनाने के लिए चने की दाल का इस्तेमाल तो नाम मात्र को किया जा रहा था। बाकी होता था रवा, पीली मटर और सूजी जैसी सस्ती चीज़ों का।

मशीनों की मदद से चने के साथ इन सबको भी पीस दिया जाता था और इस तरह 55 रुपये किलो का माल 118 रुपये किलो में बिक जाता था। यही नकली बेसन आपकी रसोई में पहुंचकर न सिर्फ पकौड़े, कढ़ी और बेसन के हलवे का ज़ायका खराब करता है बल्कि आपकी सेहत के लिए भी नुकसान दे रहा है।

न्यूज़ 24 की सूचना के आधार पर जैसे ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारीयों और फ़ूड इन्स्पेक्टर की टीम ने यहां छापा मारा फैक्ट्री में काम कर रहे लोग वहां से भाग गए। छापे की कार्रवाई से पता चला कि ये नकली बेसन कई नामी ब्रांड की पैकिंग में भरकर सप्लायर्स को भेजा जाता था। हालांकि फैट्री के मालिक का कहना है कि वो खुद मिलावटी बेसन नहीं बेचते। सप्लायर ही उनसे ऐसे बेसन की मांग करते हैं।

ऐसा नहीं है कि नकली बेसन बनाने वाली इस फैक्ट्री पर पहली बार छापा पड़ा है। पांच साल पहले भी इसी कंपनी पर मिलावट के आरोप में कारवाही हो चुकी हैं, लेकिन महंगाई के दौर में नकली माल से मुनाफे का खेल हर साल शुरू हो जाता है। स्वास्थ्य विभाग ने इस फैक्ट्री में तैयार करीब 8 हज़ार किलो से भी ज्यादा मिलावटी बेसन जब्त कर लिया है।

वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=by6tS7C6J5M[/embed]