राजनीति के पिच पर भी लोकप्रिय थे विनोद खन्ना

नई दिल्ली ( 27 अप्रैल ): बाॅलीवुड के बेहद पॉपुलर अभिनेता विनोद खन्ना अब हमारे बीच नहीं रहे हैं उनका 70 साल की उम्र में निधन हो गया। वह जितने लोकप्रिय हिंदी सिनेमा में थे उतने ही लोकप्रिय वह राजनीति के पिच पर भी थे। वे अपनी कई भूमिकाओं से समाज में सक्रिय रहे। वह भाजपा से चार बार सांसद रहे और केंद्र में वे मंत्री भी रह चुके थे।


फिल्मों में टॉप के हीरो के रूप में अपनी पहचान बनाने के बाद विनोद खन्ना ने समाज सेवा के लिए वर्ष 1997 में राजनीति में प्रवेश किया। वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए। 1998 में गुरदासपुर से चुनाव लड़कर लोकसभा के सदस्य बने। उन्होंने पांच बार चुनाव लड़ा लेकिन जीत उन्हें 4 बार ही मिली।


वह बाद में केन्द्रीय मंत्री के रूप में भी उन्होंने काम किया। वे चार बार गुरदासपुर से बीजेपी के सांसद रहे।


युवाओं में पॉपुलर विनोद खन्ना ने बीजेपी के लिए कई राज्यों में प्रचार किया। कहा जाता है कि हेमा मालिनी को राजनीति में लाने वाले विनोद खन्ना ही थे। हाल में योगी आदित्यनाथ के लिए प्रचार करने की एक पुरानी तस्वीर भी विनोद खन्ना की वायरल हुई थी। 2009 के चुनावों में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।