नोटबंदी के बाद अब डॉक्टरों पर शिकंजा, नकद इलाज करने पर रद्द होगा लाइसेंस

नई दिल्ली (16 दिसंबर): नोटबंदी के बाद अब सरकार उन डॉक्टर्स पर शिकंजा करने की तैयारी में है जो इलाज के लिए मरीजों से सिर्फ कैश ही ले रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस संदर्भ में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया को पत्र लिखकर सूचित भी किया है।

इस लेटर में साफ है कि प्रैक्टिस कर रहे डॉक्टर्स को अब स्वाइप मशीन का इस्तेमाल करना जरूरी होगा। इन डॉक्टर्स को अप्रैल 2017 से स्वाइप मशीन करना आवश्यक होगा। जो भी डॉक्टर इस नियम का उल्लंघन करेगा, उसका लाइसेंस 

रिन्यू नहीं किया जाएगा।

सरकार ने इसमें यह भी साफ किया है कि प्रैक्टिस करने वाले प्राइवेट डॉक्टर्स अपने एंप्लायीज को कार्ड के जरिये पेमेंट करेंगे। जिन डॉक्टर्स के 10 से ज्यादा एंप्लायीज हैं, वह अपना पूरी डिटेल लेबर कमिशन को देनी होगी।