नोटबंदी का असरः पेनकार्ड की डिटेल बिना जमा की गयी रकम जांच के घेरे में

नई दिल्ली (23 जनवरी): सरकार ने नोटबंदी के बाद संदिग्ध लेन-देन की जांच का दायरा बढ़ा दिया है। इसके तहत बड़ी राशि के प्रतिबंधित नोटों को बैंकों में जमा करने की समयसीमा के अंतिम 10 दिनों में नए खातों में जमा और कर्ज लौटाए जाने का विश्लेषण शुरू किया गया है। साथ ही ई-वॉलेट में स्थानांतरण और आयात के लिए अग्रिम धन देने के मामलों का विश्लेषण शुरू किया गया है।

नवंबर में 500 और 1,000 रुपये के नोटों पर पाबंदी के बाद बैंकों और डाकघरों में 50 दिन की अवधि में जमा की गई राशि के विश्लेषण के बाद प्राधिकरण अब मियादी जमा और ऋण खातों की जांच कर रहा है जो 8 नवंबर को नोटबंदी के बाद खोले गए। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, ‘आयकर विभाग बिना पैन कार्ड की डिटेल दिए 50,000रुरपये से अधिक की नकद जमा के मामलों में कार्रवाई कर रहा है।’