एबीवीपी ने वामपंथी संगठनों के खिलाफ निकाला 'सेव डीयू' मार्च

नई दिल्ली ( 2 मार्च ): रामजस काॅलेज के विवाद को लेकर अब दिल्ली यूनिवर्सिटी में अब जमकर राजनीति हो रही है। गुरुवार को कैंपेस में एबीवीपी का 'सेव डीयू' मार्च निकाला गया। मंगलवार को वामपंथी संगठनों ने भी एबीवीपी के खिलाफ प्रदर्शन किया था। विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर डीयू कैंपस में अर्धसैनिक बल तैनात किये गए हैं। रैली के पूरे रूट पर पुलिस की भारी तैनाती की गई। छात्रों को कानून न तोड़ने की सख्त हिदायत दी गई।

सभी छात्र हाथों में बैनर और पोस्टर लेकर इस मार्च में शामिल हुए। इस विरोध मार्च में बड़ी संख्या में एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। एबीवीपी ने ये मार्च वामपंथी छात्र संगठन AISA के विरोध मार्च के जवाब में निकाला है।

एबीवीपी का मार्च आर्ट फैकल्टी से शुरू हुआ। उसके बाद प्रदर्शनकारी विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन से होते खालसा कॉलेज, मिरांडा कॉलेज, एसआरसीसी, डीआरसी, रामजस कॉलेज और फिर आर्ट फैकल्टी में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति तक मार्च किया। एबीवीपी के मुताबिक मार्च के जरिये छात्रों से 'कम्युनिस्ट ब्रिगेड के भारत-विरोधी एजेंडा' के खिलाफ आवाज उठाने का आह्वान है।

इससे पहले बुधवार को एबीवीपी ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और पुलिस से देश के खिलाफ जहर उगलने वालों पर कार्रवाई करने की मांग की।

22 फरवरी को रामजस कॉलेज के कैंपस में वामपंथी छात्र संगठन AISA और एबीवीपी के बीच झड़प हुई थी। विवाद एक सेमिनार में जेएनयू नेता शेहला रशीद और उमर खालिद की शिरकत को लेकर शुरू हुआ। सेना के शहीद की बेटी गुरमेहर कौर के एबीवीपी के खिलाफ वायरल पोस्ट के बाद मसले ने और तूल पकड़ लिया।