हार के बाद बोले बिंद्रा, संन्यास लेने को तैयार

नई दिल्ली(9 अगस्त): अंतिम बार शूटिंग रेंज पर उतरे अभिनव बिंद्रा ने रियो ओलंपिक में पदक से चूकने के बाद किसी तरह की कोई भावना नहीं दिखाई और स्पष्ट किया कि निशानेबाजी में उनका सफर पूरा हो गया है। बिंद्रा ने कहा कि वह अपने जीवन में अगले पड़ाव पर जाने के लिए तैयार हैं।

- मैच खत्म होने के बाद बिंद्रा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘शांतचित्त रहना मेरा काम है। मैं आपके सामने टूटना नहीं चाहता। मुझे पता था कि ऐसा होने वाला है और मैं इसके साथ शांति के साथ हूं। मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया लेकिन चौथे स्थान पर रहा। कोई पदक नहीं मिला, लेकिन उसके बहुत करीब पहुंचा। दिन अच्छा था लेकिन फलदायक नहीं रहा।’’भारत के 34 वर्षीय निशानेबाज ने कहा कि शूटिंग रेंज में फिर से प्रवेश करने की कोई संभावना नहीं है।

- ओलंपिक में भारत को एकमात्र व्यक्तिगत स्वर्ण पदक दिलाने वाले दिग्गज निशानेबाज ने कहा, ‘‘मैंने अपना काम पूरा कर लिया है। मैंने संन्यास की घोषणा कर दी है इसलिए उस पर फिर से विचार नहीं होगा। मैं अब शूटिंग नहीं करूंगा। बस, मैं पहले ही युवाओं की मदद कर रहा हूं।

-  बिंद्रा ने कहा कि मैं अपने फाउंडेशन के जरिये 30 युवा निशानेबाजों की मदद कर रहा हूं। चौथे स्थान के साथ निशानेबाजी खत्म करने से शायद यह तस्वीर उतनी साफ नहीं हो पायेगी कि किस तरह की तैयारियां की गयी थी लेकिन बीजिंग ओलंपिक के चैम्पियन निशानेबाज ने कहा कि इस बार भी प्रयास में कोई कमी नहीं थी।