पंजाब में 'आप' विधायक पर दंगे की साजिश रचने का आरोप

नई दिल्ली(3 जुलाई): पंजाब के मलेरकोटला में एक धार्मिक पुस्तक की बेअदबी के मामले में पुलिस ने आम आदमी पार्टी के विधायक पर मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले में हिरासत में लिए शख्स विजय कुमार ने शनिवार  को पुलिस के सामने नरेश यादव का नाम लिया।

विजय कुमार उन तीन लोगों में से एक है जिन्हें पुलिस ने कुरान फाड़ने के केस में गिरफ्तार किया है। नरेश यादव दिल्ली के महरौली से विधायक हैं और वह पंजाब चुनाव के पार्टी प्रमुख भी हैं। पुलिस के मुताबिक, विजय कुमार ने बताया है कि नरेश यादव ने ऐसा करने के लिए उसे एक करोड़ रुपए देने का वादा किया था।

विजय ने बताया कि नरेश किसी भी तरह से पंजाब का चुनाव जीतना चाहते थे। विजय का आरोप है कि नरेश ने कहा था कि अगर उन लोगों ने काम को सही से अंजाम दिया तो आगे भी उनसे ऐसे काम करवाए जाएंगे। विजय के मुताबिक, आप पार्टी चुनाव से पहले धार्मिक माहौल बिगाड़कर चुनावी फायदा लेना चाहती थी।

पुलिस ने विजय के साथ-साथ नंद किशोर और उसके बेटे गौरव को भी पकड़ा था। इन तीनों ने अपना गुनाह कबूल भी कर लिया था। पुलिस के मुताबिक, विजय पठानकोट हमलों का बदला लेना चाहता था और वह मुसलमानों और पाकिस्तानियों से नफरत करता था।

वहीं, नंद किशोर के विश्व हिंदू परिषद से जुड़े होने के सबूत सामने आए हैं। विजय दिल्ली का रहने वाला है। इसलिए जब पुलिस ने दिल्ली में रेड की तो उन्हें विजय की ऑडी गाड़ी में कुरान के बाकी पन्ने भी मिले। वहीं, आप पार्टी के प्रवक्ता संजय सिंह ने आरोपों को गलत बताते हुए कहा, ‘आकाली दल और बीजेपी बौखला गए हैं। इन्हें अपनी हार साफ नजर आ रही है इसलिए हमारे विधायक को फंसाया जा रहा है। यह एक राजनीतिक साजिश है।’

नरेश यादव ने विजय को पहचानने से इंकार करते हुए कहा है कि उनके ऊपर लगे आरोप बेबुनियाद हैं। फिलहाल पुलिस ने विजय की गवाही के आधार पर यादव के खिलाफ सेक्शन 109 (क्राइम के लिए उकसाना), 153-A (धर्म, जाति, जन्म, निवास, भाषा के आधार पर शत्रुता पैदा करने की कोशिश) के तहत मामला दर्ज कर लिया है।