संदीप का वीडियो वायरल, पुलिस परेशान

नई दिल्ली(5 सितंबर): सीडी कांड में फंसे दिल्ली सरकार के बर्खास्त मंत्री संदीप कुमार का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुकी है। इस विडियो को ट्वीटर जैसी साइट पर आज सुबह तक 300 से ज्यादा लोग री-ट्वीट और 600 से ज्यादा 'लाइक' कर चुके थे। संदीप के महिलाओं के साथ के कुछ आपत्तिजनक फोटो पहले ही वॉट्सऐप ग्रुप्स पर वायरल हो चुके हैं।

- कानून के जानकारों का कहना है कि ये मामला अभी बुनियादी स्तर पर है, जिसमें बिना फॉरेंसिक जांच सीडी की प्रमाणिकता पर संदेह है, रेप के आरोप पर सुनवाई होनी है, ऐसे में विडियो का सोशल मीडिया पर वायरल होना खतरनाक 'ट्रेंड' है।

- इससे सबसे ज्यादा प्रभावित और नाइंसाफी विडियो में नजर आने वाली महिला के साथ होगी, जो कानून की नजर में 'विक्टिम' (पीड़ित) है। यदि संदीप कुमार दोषी साबित नहीं होते तो वह भी मानहानि का केस कर सकते हैं।

- साइबर लॉ एक्सपर्ट पवन दुग्गल का कहना है कि इस तरह के अश्लील विडियो को अपलोड करने और उसे री-ट्वीट करने वालों के खिलाफ आईटी ऐक्ट की धारा 67 के तहत मुकदमा दर्ज हो सकता है, दोषी साबित होने पर 3 साल तक की कैद और अधिकतम पांच लाख रुपये जुर्माने की सजा हो सकती है।

- यदि शिकायत हुई तो पुलिस को एक्शन लेना होगा। पुलिस खुद से भी कार्रवाई कर सकती है, इस विडियो का साइट से डिलीट करने के लिए पुलिस या सरकार संबंधित साइट से रिक्वेस्ट कर सकती हैं।

- इस केस में पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती विडियो की प्रमाणिकता को साबित करना है। पब्लिक में साइबर कानून का डर होने के साथ आत्मसंयम होना चाहिए। इस तरह के ट्रेंड को रोकने के लिए पब्लिक का जागरूक होना जरूरी है।