कुमार को मनाने में कामयाब रहे केजरीवाल, राजस्थान का बनाया प्रभारी

नई दिल्ली (3 मई): आम आदमी पार्टी में कुमार विश्वास को लेकर पिछले कई दिनों से जारी विवाद फिलहाल थम गया है। आप ने PAC की बैठक में विधायक अमानतुल्लाह खान के पार्टी से सस्पेंड कर दिया है। इसके साथ ही कुमार विश्वास को राजस्थान का प्रभारी बनाए का फैसला किया है। इससे पहले काफी मान मनोवल के बाद आज नाराज कुमार विश्वास AAP की PAC की बैठक में शामिल हुए। तकरीबन 3 घंटे तक चली इस बैठक के बाद कुमार विश्वास और मनीष सिसोदिया मीडिया के सामने आए और अपनी-अपनी बातें कही।


कुमार ने समर्थन के लिए कार्यकर्ताओं और तमाम पदाधिकारियों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि मैं कार्यकर्ताओं को धन्यवाद देता हूं और उन्हें आश्वस्त करता हूं कि जब भी पार्टी में विचार विमर्श की जरूरत होगा, हम बैठेंगे और बात करेंगे। पहले ही कहा था कि किसी को भ्रम न हो कि यह वर्चस्व का संवाद है। कुमार ने फिर दोहराया कि उनकी सीएम बनने की कोई इच्छा नहीं है। उन्होंने कहा कि पार्टी में विचार विमर्श की प्रक्रिया की शुरुआत हुई है जो आगे भी जारी रहेगी।


मनीष सिसोदिया ने अमानतुल्लाह खान को पार्टी से निलंबित किए जाने की जानकारी दी। उन्होंने कहा, 'कई फैसले हुए हैं, पर दो सबसे अहम फैसले ये हैं कि अमानतुल्लाह खान को पार्टी की सदस्यता से निलंबित करने का फैसला हुआ है। साथ एक कमिटी का गठन किया गया है जो इस पूरे मामले की जांच करेगी। अमानतुल्लाह का पक्ष भी सुना जाएगा...तब तक वह निलंबित रहेंगे। दूसरा फैसला यह है कि कुमार विश्वास को राजस्थान का प्रभारी बनाया गया है। वह पार्टी के संगठन को वहां मजबूत बनाने का काम करेंगे।


आपको बता दें कि सारा विवाद अमानतुल्लाह खान के उस बयान के बाद खुलकर सामने आया था जब अमानतुल्लाह ने कुमार विश्वास पर बीजेपी के साथ मिलकर पार्टी को तोड़ने की साजिश रचने का आरोप लगाया था। ऐसे में कुमार उम्मीद कर रहे थे कि केजरीवाल अमानतुल्लाह को पार्टी से तुरंत बाहर का रास्ता दिखा देंगे, पर ऐसा हुआ नहीं। इससे नाराज कुमार विश्वास मंगलवार को मीडिया के सामने अपनी नाराजगी जाहिर। इससे नाराज मनीष सिसोदिया भी मीडिया के सामने आए और उन्होंने कहा कि कुमार विश्वास को इसे निजी लड़ाई नहीं बनाना चाहिए। उन्होंने पार्टी की बैठक में आने के बजाय मीडिया के सामने अपनी बात रखने के लिए भी विश्वास को आड़े हाथों लिया था। हालांकि कुमार विश्वास ने जब फैसला लेने के लिए मंगलवार रात की डेडलाइन का ऐलान किया, तो केजरीवाल और सिसोदिया उन्हें मनाने पहुंच गए।


बता दें कि कुमार विश्वास अन्ना आंदोलन के समय से ही केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के साथ जुड़े हुए हैं। वह AAP के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं, साथ ही सिसोदिया के अच्छे दोस्त भी। वह पार्टी के स्टार प्रचारकों में से एक हैं। उनके बीजेपी में जाने की अटकलें पहले भी लगती रही हैं, पर उन्होंने हर बार इसका खंडन किया है।