जेटली के खिलाफ गवाही देंगे कीर्ति आजाद

नई दिल्ली (15 मार्च): दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पांच अन्य लोगों के खिलाफ मानहानि के केस में वित्त मंत्री अरुण जेटली को जवाब देने के लिए अब आम आदमी पार्टी ने बीजेपी नेता और पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद का सहारा लेगी।

‘आप’ ने कीर्ति आजाद से अपने पक्ष की तरफ से जेटली के खिलाफ कोर्ट में गवाही देने के लिए कहा है। जिसके बाद आजाद ने भी गवाही देने के लिए सहमति जता दी है। इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा जमा किए गए इलैक्ट्रोनिक सबूतों का ‘आप’ नेताओं ने दिल्ली हाईकोर्ट में विरोध किया। ‘आप’ नेताओं ने जेटली द्वारा संयुक्त पंजीयक कोवई वेणुगोपाल के समक्ष दाखिल सबूतों के प्रिंट आउट की स्वीकार्यता पर आपत्ति जताते हुए कहा कि मंत्री ने भारतीय सबूत अधिनियम के अनुच्छेद 65 बी के न तो प्रमाणपत्र (इलैक्ट्रोनिक रिकॉर्ड की स्वीकार्यता) पेश किए हैं और न ही अपने सबूत के समर्थन में कोई हलफनामा दाखिल किया है और इसलिए कार्यवाही के दौरान इन दस्तावेजों को सबूत के तौर पर नहीं लिया जा सकता।

वरिष्ठ अधिवक्ता प्रतिभा एम सिंह ने जेटली का पक्ष रखते हुए केजरीवाल, राघव चड्ढा, कुमार विश्वास, आशुतोष, संजय सिंह और दीपक बाजपेयी की दलील का विरोध करते हुए कहा कि मंत्री ने हलफनामा दाखिल किया है और इसलिए अदालत कार्यवाही को आगे बढ़ा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रतिवादियों (‘आप’ नेताओं) का यह मामले में देरी का हथकंडा है। सुनवाई के दौरान ‘आप’ नेताओं का पक्ष रख रहे वकील ने कहा कि जेटली का हलफनामा अधूरा है और अदालत इस मामले पर फैसला किए बिना कार्यवाही को आगे नहीं बढ़ा सकती।