Blog single photo

पूर्व पीएम राजीव गांधी के भारत रत्न पर AAP में मचा घमासान

दिल्ली विधानसभा ने शुक्रवार को 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर एक प्रस्ताव को पास किया, जिसमें यह मांग की गई है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिया गया भारत रत्न सम्मान वापस लिया जाए। हालांकि, सत्ताधारी आम आदमी पार्टी ने प्रस्ताव में कांग्रेस नेता के संदर्भ से खुद को दूर कर लिया है। इस बीच, इस मुद्दे को लेकर AAP में ही घमासान मचता दिख रहा है। AAP विधायक अलका लांबा ने बागी तेवर अपना लिए हैं।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 दिसंबर): दिल्ली विधानसभा ने शुक्रवार को 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर एक प्रस्ताव को पास किया, जिसमें यह मांग की गई है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिया गया भारत रत्न सम्मान वापस लिया जाए। हालांकि, सत्ताधारी आम आदमी पार्टी ने प्रस्ताव में कांग्रेस नेता के संदर्भ से खुद को दूर कर लिया है। इस बीच, इस मुद्दे को लेकर AAP में ही घमासान मचता दिख रहा है। AAP विधायक अलका लांबा ने बागी तेवर अपना लिए हैं।  AAP विधायक अलका लांबा ने एक ट्वीट कर कहा, 'दिल्ली विधानसभा में प्रस्ताव लाया गया कि पूर्व पीएम प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी जी को दिया गया भारत रत्न वापस लिया जाना चाहिए। मुझे मेरे भाषण में इसका समर्थन करने को कहा गया, जो मुझे मंजूर नहीं था, मैंने सदन से वॉक आउट किया। अब इसकी जो सजा मिलेगी मैं उसके लिए तैयार हूं।'  

AAP प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज का कहना है कि पूर्व प्रधानमंत्री के बारे में जो पंक्तियां हैं, वे सदन में पेश किए गए मूल प्रस्ताव का हिस्सा नहीं थी और एक सदस्य ने उस पर हाथ से लिखकर इन्हें शामिल किया था। भारद्वाज ने कहा कि इस तरीके से प्रस्ताव पास नहीं सकता।AAP विधायक जरनैल सिंह ने विधानसभा में प्रस्ताव को पेश करते वक्त राजीव गांधी के नाम का जिक्र किया और 'सिख विरोधी दंगों को का बचाव' करने के लिए कांग्रेस नेता से भारत रत्न वापस लिए जाने की मांग की। हालांकि, भारद्वाज के बयान के बाद जरनैल सिंह ने कहा कि यह एक तकनीकी त्रुटि थी। उन्होंने कहा कि प्रस्ताव की लिखित कॉपी में राजीव गांधी के नाम का संदर्भ नहीं था, इसे मौखिक तौर पर शामिल किया गया जिसे सदन ने ध्वनि मत से पास किया। प्रस्ताव में सिख विरोधी दंगों को नरसंहार बताते हुए इससे जुड़े मामलों की तेजी से सुनवाई की मांग की गई है।दूसरी तरफ, दिल्ली कांग्रेस ने पूरे विवाद पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि राजीव गांधी ने देश के लिए अपना बलिदान दिया। उन्होंनेAAP को बीजेपी की बी टीम बताते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी का असली रंग सामने आ गया है।AAP विधायक जरनैल सिंह ने खुद पत्रकारों से राजीव गांधी से भारत रत्न वापस किए जाने की मांग संबंधित प्रस्ताव के विधानसभा में पास होने की जानकारी दी थी। विधानसभा के बाहर उन्होंने पत्रकारों को बताया कि विधानसभा ने उनके प्रस्ताव को पास कर दिया है और राजीव गांधी की इस टिप्पणी कि जब बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती कांपती है, के लिए उनसे भारत रत्न वापस लिए जाने की मांग की गई है।हालांकि, भारद्वाज के ट्वीट के बाद जरनैल सिंह ने कहा कि आखिरी क्षणों में सोमनाथ भारती ने उन्हें राजीव गांधी के बारे में पॉइंट बताए लेकिन सदन में सदस्यों को बांटी गईं प्रतियों में इस पॉइंट का जिक्र नहीं था। बता दें कि ऐसी चर्चाएं हैं कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ सकती हैं। राजीव गांधी के खिलाफ प्रस्ताव से यह संभावित गठबंधन बनने से पहले ही बिखर सकता है, इसीलिए आम आदमी पार्टी तुरंत डैमेज कंट्रोल मोड में आ गई।

Tags :

NEXT STORY
Top