यहां पर मौजूद हैं भगवान शिव के पैरों के असली निशान

मोहित मल्होत्रा, नई दिल्‍ली (6 मार्च): आज हम आपको रूबरू कराने जा रहे हैं शिव के चार ऐसे राज से जिनके बारे में बहुत कम लोगों को पता होगा। महाशिवरात्रि से पहले हम आपको ऐसी एक गुफा में के बारे में बताएंगे जिसमें हजारों शिवलिंग मौजूद हैं। यही नहीं यहां पर भगवान शिव के पैर के असली निशान भी मौजूद हैं।

उस गुफा में हजारों शिवलिंग हैं। कोई 20 हजार साल पुराना, कोई 25 हजार साल पुराना तो कोई 30 हजार साल पुराना। लेकिन वो गुफा कितनी पुरानी है इसके बारे में कोई भी नहीं जानता है। उस गुफा में हजारों शिवलिंग होने के बावजूद आज तक उस गुफा में कोई भी नहीं पहुंच पाया। ऐसा इसलिए क्योंकि उस गुफा का राज अब तक अनकहा है, अनसुना है, अनदेखा है।

शिव का वो राज जो करीब 5 हजार साल पुराना है। उत्तराखंड की धरती पर इतने सालों बाद भी शिव के पैर का वो निशान सही सलामत हैं। शिव के पैरों से बना वो निशान काफी गहरा है और निशान की लंबाई है लगभग 2 फीट। 5 हज़ार साल पहले बने भगवान शिव के पैरों के निशान जस के तस बने हुए हैं और इसके पीछे है महाभारत काल से जुड़ा इतिहास।

बाबा बर्फानी के नाम से मशहूर अमरनाथ में हर साल अवतरित होने वाले शिवलिंग के बारे में आपने देखा होगा, सुना होगा और दर्शन भी किए होंगे, लेकिन क्या आपको मालूम है कि इसी धरती पर एक और अमरनाथ मौजूद है, जहां बर्फ से बनने वाला शिवलिंग बाबा बर्फानी के शिवलिंग से भी बड़ा है। सवाल है कि आख़िर बाबा अमरनाथ की तरह एक और शिवलिंग भारत में कहां मौजूद है। शिव से जुड़ा ये कैसा राज़ है जो सैकड़ों साल तक पर्दे में था, न्यूज़ 24 की टीम ने महादेव से जुड़े इस सबसे बड़े राज़ की पड़ताल की है।

हिमाचल के कुल्लू में मौजूद उस शिवलिंग पर हर 12 साल बाद बिजली गिरती है, वो शिवलिंग हर 12 साल बाद खंडित होता है लेकिन इसके बावजूद वो शिवलिंग फिर से जुड़ जाता ।, महादेव के इसी चमत्कार की वजह से शिव के उस धाम का नाम बिजली महादेव रख दिया गया।

देखिए पूरी रिपोर्ट:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=uzaypjnQ5UI[/embed]