आधार कार्ड से जुड़ेंगे देश भर के बैंक खाते

नई दिल्ली(17 दिसंबर): देश में डिजिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने की दिशा में सरकार सभी बैंक खातों को आधार से जोड़ने की मुहिम चलाने जा रही है। इससे आधार आधारित भुगतान व्यवस्था को तेजी से लागू करने में मदद मिलेगी। इसके अतिरिक्त डिजिटल ट्रांजैक्शन को सुरक्षित बनाने के लिए मोबाइल वॉलेट से होने वाले भुगतान में वन टाइम पासवर्ड की व्यवस्था लागू करने की तैयारी भी की जा रही है।

- नोटबंदी के बाद देश में कैशलेस सौदों को बढ़ावा देने में जुटी सरकार ऐसी व्यवस्था करना चाहती है जिसमें ग्राहकों के लिए जोखिम कम से कम हो। ऐसी सूरत में आधार के जरिए होने वाले भुगतान की व्यवस्था को अधिक सुरक्षित माना जा रहा है। इसके लिए इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय एक मोबाइल एप्लीकेशन भी लांच कर रहा है जिसमें बायोमीट्रिक पहचान करने वाली मशीन जोड़ कर कोई भी दुकानदार ग्राहक से भुगतान प्राप्त कर सकता है।

- इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि आधार के जरिए भुगतान करने की व्यवस्था कायम हो जाने के बाद स्मार्टफोन रखने वाला कोई भी दुकानदार केवल एक छोटी सी मशीन के जरिए भुगतान प्राप्त कर सकेगा।

- इसी व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए अब सरकार देश में मौजूद सभी बचत खातों को आधार से जोड़ने की तैयारी में जुट गयी है।

- जानकारी के मुताबिक बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में इस बात का फैसला हुआ कि सभी खातों के लिए आधार अनिवार्य किया जाए। एक अनुमान के मुताबिक मौजूदा वक्त में देश में करीब 120 करोड़ बचत खाते हैं। इनमें से अभी तक करीब 60-65 फीसद खातों से ही आधार संख्या को जोड़ा जा सका है।