आधार कार्ड नहीं होने पर 30 जून के बाद नहीं मिलेगा मिड-डे मिल

नई दिल्ली (23 जून): राजस्थान के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले सभी बच्चों को आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया है। राजस्थान सरकार का यह फरमान निकाला है जो की गरीब बच्चों के मुंह में जाने वाला मिड-डे-मिल का निवाला छीन सकता है। अब आधार कार्ड से लिंक बच्चों को ही दोपहर का भोजन(मिड डे मील) मिलेगा। साथ ही छात्रवृत्ति, निशुल्क पुस्तकें और अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ भी आधारकार्ड वालों को ही मिलेगा।

सरकार ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। जिन बच्चों के आधारकार्ड नहीं बने हैं, उन्हें 30 जून तक अनिवार्य रूप से आधारकार्ड पंजीयन करवाना होगा। इसके बाद जिनके आधारकार्ड नहीं बनेंगे, उन्हें सरकारी योजनाआें से वंचित किया जा सकता है।

वसुंधरा सरकार ने एक आदेश जारी कर सभी सरकारी स्कूलों में पढने वाले बच्चों का आधार कार्ड बनाने को कहा है। इस शर्त के साथ की जिनके पास आधार कार्ड नहीं होगा उन्हें 30 जून के बाद मिड-डे मिल का खाना ही नहीं दिया जाएगा। जबकि सरकार खुद इस हकीकत को जानती है कि न तो अगले पांच वर्किंग डे में वह लाखों बच्चों का आधार कार्ड बनवा सकती है और न ही इसके लिए उसने पूरी तेयारियां कर रखी हैं।

 

वैसे भी इस वक्त केवल 33 फीसदी छात्रों का ही आधार कार्ड का नामांकन हुआ है और 30 जून तक किसी भी कीमत पर सभी बच्चों को इससे जोड़ा जाना संभव ही नहीं है। अचरज की बात यह है की यह आदेश 22 जून को जारी किया गया है और 23 जून तक सभी दफ्तरों और स्कूलों में पहुंचा होगा। 24, 25 और 26 का

सार्वजनिक अवकाश है ऐसे में 27 से लेकर 30 जून तक यानी की महज चार दिनों में सभी बच्चों का आधार कार्ड कैसे बनेगा यह किसी ने नहीं सोचा।