बोतल में बंद दुनिया का सबसे पुराना संदेश मिला

नई दिल्ली (20 अप्रैल) :  एक बोतल में संदेश बंद कर समुद्र में डुबोया गया। वो संदेश 108 साल बाद निकाला गया। अब ये पुष्टि हो गई है कि ये दुनिया में बोतल में बंद सबसे पुराना संदेश है।

द इंडिपेंबोतल में बंद किए गए पोस्टकार्ड में ये संदेश दिया गया था कि इसे इंग्लैंड की मैरिन बॉयोलॉजिकल एसोसिएशन तक जो पहुंचाएगा उसे एक शिलिंग दिया जाएगा।  

प्लाईमाउथ स्थित एसोसिएशन ने बताया कि यह बोतल उन 1000 बोतलो का हिस्सा थी जिन्हें समुद्री अनुसंधान के तहत समुद्र में उतारा गया था। ये शोध विशेषज्ञ जॉर्ज पार्कर बिडर की ओर से किया गया था।

बताया गया है कि रिटायर्ड जर्मन डाक कर्मी मैरियाने विंकलर को यह बोतल पिछले साल अप्रैल में मिली थी। यानी संदेश को लिखे जाने के 108 साल, चार महीने और 18 दिन बाद।   

मैरियाने पिछले साल अप्रैल में इंग्लैंड से 500 किलोमीटर दूर नॉर्थ सी के फ्रीसियन आइलैंड में छुट्टियां बिताने गई हुई थीं। वहीं उन्हें बोतल में बंद ये संदेश मिला। मैरियाने ने इसे इंग्लैंड में एसोसिएशन के पास भेजा। मैरियाने को बदले में एक शिलिंग मिल गया है। गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने बोतल के संदेश को दुनिया का सबसे पुराना होने की पुष्टि कर दी है।  

मैरिन बॉयोलॉजिकल एसोसिएशन के गॉय बेकर ने कहा, बोतल में बंद पोस्टकार्ड में लिखा गया था जो भी इसे पाए वो ये जानकारी इसमें भरे कि बोतल को किस स्थान पर पाया गया। साथ ही ये भी लिखा था कि अगर पोस्टकार्ड को प्लाईमाउथ में जॉर्ज पार्कर बिडर तक पहुंचाएगा उसे एक शिलिंग का इनाम दिया जाएगा। बिडर 1939 से 1945 तक मैरीन बॉयोलॉजिकल एसोसिएशन के अध्यक्ष रहे थे। बिडर ने 1904 से 1906 के बीच 1,020 बोतलें समुद्र में डुबोई थीं। उन्होंने पाया कि ये बोतलें हर साल 55 फीसदी की दर से मछुआरों की ओर से खोजी जाती हैं।

गॉय बेकर ने बताया कि कुछ बोतलें कभी वापस ही नहीं आईं। समझा गया कि ये बोतलें हमेशा के लिए समुद्र में समा गई है। बोतल में बंद सबसे पुराने संदेश का इससे पहले 99 साल 43 दिन का रिकॉर्ड था। ये संदेश जुलाई 2013 में शेटलैंड आइलैंड के पश्चिम में पाया गया था।