News

जलवायु बेहतर करने के नाम पर नेताओं ने हमें नाउम्मीद किया- ग्रेटा थुनबर्ग

स्वीडन की 17 साल की जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) ने दावोस (Davos) में आयोजित वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की वार्षिक बैठक में हिस्सा लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ग्रेटा ने राष्ट्रपति ट्रंप का नाम लिए बिना दुनिया के तमाम नेताओं को चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि 'मुझे अचरज है कि आप अपने बच्चों को नाकाम होने के बारे में क्या कहेंगे

Donald Trump- Greta Thunberg

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 जनवरी): स्वीडन की 17 साल की जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ता (Climate Change Activist) ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) ने दावोस (Davos) में आयोजित वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) की वार्षिक बैठक में हिस्सा लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ग्रेटा थुनबर्ग ने राष्ट्रपति ट्रंप का नाम लिए बिना दुनिया के तमाम नेताओं को चेतावनी दी। अपनी चेतावनी में उन्होंने कहा कि 'मुझे अचरज है कि आप अपने बच्चों को नाकाम होने के बारे में क्या कहेंगे, आपने जानबूझ कर उन्हें पर्यावरण के लिहाज से विषम परिस्थतियों में पहुंचा दिया है। यह इतना बुरा है कि आप अर्थव्यवस्था के नाम पर उन्हें बेहतर भविष्य देने की कोशिश भी नहीं कर रहे हैं?'

न्यूयॉर्क टाइम्स और डब्ल्यूईएफ द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ग्रेटा थुनबर्ग ने कहा कि दुनिया में भीषण तबाही के बावजूद नेताओं ने कार्बन उत्सर्जन कम करने की दिशा में कुछ नहीं किया। जलवायु संकट पर जागरुकता बढ़ी लेकिन कुछ खास नहीं बदला। ग्रेटा ने वैश्विक नेताओं से कहा कि आपने जलवायु को बेहतर करने के नाम पर केवल हमें नाउम्मीद किया है। वहीं अन्य युवा जलवायु कार्यकर्ताओं के साथ एक पैनल चर्चा के दौरान जब उनसे पूछा गया कि आप अपने हेटर्स (Haters) से कैसे डील करती हैं तो इसपर उन्होंने जवाब देने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि 'इसके अलावा भी ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिनके बारे में लोगों को अधिक जानने की जरूरत है।'

इस समिट में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) भी शामिल हुए। अपने संबोधन में राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि ये समय उम्मीद का है, नाउम्मीदी का नहीं। इस संबोधन में उन्होंने अपने कार्यकाल की उपलब्धियों और ऊर्जा सेक्टर में अमरीकी तेजी का जिक्र किया है। पर्यावरण कार्यकर्ताओं के बारे में बोलते हुए ट्रंप ने कहा कि 'खतरा बताने वाले लोग हर समय यही मांग करते हैं- हमारे जीवन को प्रभावित करने वाली, बदलने वाली और नियंत्रण करने वाली ताकत। 'उन्होंने इन लोगों के बारे में ये भी कहा कि 'कल के मूर्खों के वारिस भविष्य बताने वाले बन रहे हैं।'

यह भी पढ़े : इमरान ने फिर बहाए आंसू तो बोले ट्रंप, कश्मीर पर भारत-पाक की मदद को तैयार अमेरिका

(Image Credit: Google)


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top