News

अमेरिकन साइबर आर्मी के हमले से ईरान का मिसाइल डिफेंस सिस्टम ध्वस्त

अमेरिका ने अपने ड्रोन गिराये जाने का बदला लेना शुरू कर दिया है। अमेरिका ने अभी तक ईरान पर कई हमले किये हैं। एक अमेरिकी अखबार ने दावा किया है कि इन हमलों में ईरान को भारी नुकसान भी हुआ है। ये हमले इतने गुपचुप और खूबसूरती से किये गये हैं कि ईरान नुकसान झेलने के बाद भी किसी से शिकायत करने की स्थिति में नहीं

America Launched Cyber Attack on Iran

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 जून): अमेरिका ने अपने ड्रोन गिराये जाने का बदला लेना शुरू कर दिया है। अमेरिका ने अभी तक ईरान पर कई हमले किये हैं। एक अमेरिकी अखबार ने दावा किया है कि इन हमलों में ईरान को भारी नुकसान भी हुआ है।  ये हमले इतने गुपचुप और खूबसूरती से किये गये हैं कि ईरान नुकसान झेलने के बाद भी किसी से शिकायत करने की स्थिति में नहीं ।  अखबार ने लिखा है कि अमेरिका ने अपने निगरानी ड्रोन गिराए जाने के बाद ईरान की मिसाइल नियंत्रण प्रणाली और एक जासूसी नेटवर्क पर साइबर हमले किए हैं। अमेरिका के इन हमलों से ईरान के रॉकेट और मिसाइल प्रक्षेपण में इस्तेमाल होने वाले कंप्यूटर ध्वस्त हो गये हैं। ईरान इन अमेरिकी हमलों से उबरने की कोशिश कर रहा है। ऐसा बताया जा रहा है कि ईरान ने अपनी खुफिया एजेंसियों से कहा है कि वो तत्काल चीन और रूसी एजेंसियों को हायर अपने डिफेंस मिसायल सिस्टम को दुरुस्त करे।  हालांकि अमेरिका के रक्षा अधिकारियों ने अखबार की रिपोर्ट की पुष्टि नहीं की है।दरअसल, ईरान के परमाणु सौदे से अमेरिका के बाहर निकलने के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा हुआ है। ईरान ने बृहस्पतिवार को अमेरिका के एक ड्रोन को मार गिराया था। ईरान का दावा है कि ड्रोन ने उसके हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया था।ड्रोन हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान पर हमला करने के बात कही थी। बाद में उन्होंने हमले का विचार छोड़ कर शनिवार को कहा कि अमेरिका अगले सप्ताह ईरान पर बड़े प्रतिबंध लगाएगा। इधर याहू ने दो पूर्व खुफिया अधिकारियों के हवाले से दावा किया है कि अमेरिका ने सामरिक हॉर्मूज जलडमरूमध्य में जहाजों पर नजर रखने वाले ईरान के एक जासूसी समूह को निशाना बनाया है। अमेरिका का आरोप है कि ईरान ने इसी जगह हाल में ही में दो बार उसके तेल टैंकरों पर हमले किए थे।Images Courtesy:Google


Top