WHO ने प्रदूषण को लेकर जारी किए आंकड़े, दुनिया के 15 सबसे प्रदूषित शहरों में भारत के 14

नई दिल्ली (2 मई): विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO ने प्रदूषण को लेकर नए आकड़े जारी किए है। जिनेवा में WHO की ओर से जारी ताजा आकड़े में चौकाने वाली बात ये है कि  इसमें दुनिया के 15 सबसे प्रदूषित शहरों में भारत के 14 शहर है। WHO की ओर से साल 2016 के लिए जारी आकड़े की माने तो दुनिया भर में कानपूर सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर है जबकि दिल्ली का नंबर छठा है। इस सूची में कानपुर, फरीदाबाद, वाराणसी, गया, दिल्ली, लखनऊ, आगरा, मुजफ्फरपुर, श्रीनगर, गुड़गांव, पटियाला, जोधपुर और अली-सुबहअल-सलेम (कुबेत) शामिल है।दिल्ली में पीएम 2.5 ऐनुल ऐवरेज 143 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है जो नैशनल सेफ स्टैंडर्ड से तीन गुना ज्यादा है जबकि पीएम 10 ऐवरेज 292 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है जो नैशनल स्टैंडर्ड से 4.5 गुना ज्यादा है। वैसे सेंट्रल पलूशन कंट्रोल बोर्ड (सीपीसीबी) ने हाल ही में दावा किया था कि 2016 के मुकाबले 2017 में वायु प्रदूषण के स्तर में सुधार हुआ है। लेकिन बोर्ड ने अब तक 2017 के लिए हवा में मौजूदा पीएम 2.5 का डेटा जारी नहीं किया है।WHO की माने तो दुनियाभर में 10 में 9 लोग प्रदूषित हवा में सांस लेते हैं और हर साल 70 लाख लोगों की मौत होती है। रिपोर्ट के मुताबिक, 'हर साल घर के बाहर और घरेलू वायु प्रदूषण के कारण दुनियाभर में हर साल  70 लाख लोगों की मौत होती है। WHO के आंकड़े के मुताबिक अकेले बाहरी प्रदूषण से 2016 में मरने वाले लोगों की संख्या 42 लाख के करीब थी जबकि घरेलू वायु प्रदूषणों से होने वाली मौतों की संख्या 38 लाख है। वायु प्रदूषण की वजह से दिल, सांस समेत कई अन्य बीमारियां होती है।