Blog single photo

फास्ट ट्रैक कोर्ट में कमलेश तिवारी हत्याकाण्ड की सुनवाई! सरकार करेगी फांसी की मांग

खबर भी मिली है कि कमलेश तिवारी की हत्या करने के बाद दोनों हमलावर हरदोई होते हुए बरेली पहुंचे। वहां पहुंचकर एक हमलावर ने मेडिकल ट्रीटमेंट भी लिया। इसके बाद वो लखीमपुर होते हुए शाहजहांपुर पहुंचे थे। पुलिस ने होटल के उस कमरे से खून से सना भगवा कुर्ता बरामद किया है, जहां हत्यारे रूके थे। वही से नये मोबाइल फोन का डिब्बा भी मिला है। पुलिस कातिलों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 अक्टूबर): योगी आदित्यनाथ सरकार ने कमलेश तिवारी की हत्या का मामला फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने का फैसला किया है। परिजनों से मिलने सीतापुर पहुंचे कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि सरकार ने फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई के लिए कार्यवाही करेगी। साथ ही सरकार हत्यारों की फांसी की भी मांग करेगी।

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह ने हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या के दो आरोपियों पर ढाई ढाई लाख रूपये का इनाम घोषित किया है। राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया कि डीजीपी ने तिवारी की हत्या के दोनों आरोपियों पर ढाई ढाई लाख रूपये यानी कुल पांच लाख रूपये का इनाम घोषित किया है।

हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की नाका हिण्डोला थानाक्षेत्र स्थित उनके आवास पर शुक्रवार को हत्या कर दी गयी थी। पुलिस महानिदेशक सिंह ने बताया था कि होटल स्टाफ के मुताबिक, हत्या वाले दिन दोनों आरोपियों ने अपने नाम क्रमश: शेख अशफाकुल हुसैन और मुइनुद्दीन पठान बताये थे । दोनों ही होटल से बाहर चले गये । उन्होंने भगवा कुर्ता पहन रखा था और उनके हाथ में मिठाई का डिब्बा था ।

जांच के दौरान पता चला है  कि हत्यारे 17 अक्टूबर को होटल में आये थे और 18 अक्टूबर को दोपहर में होटल छोडकर चले गये। ऐसी खबर भी मिली है कि कमलेश तिवारी की हत्या करने के बाद दोनों हमलावर हरदोई होते हुए बरेली पहुंचे। वहां पहुंचकर एक हमलावर ने मेडिकल ट्रीटमेंट भी लिया। इसके बाद वो लखीमपुर होते हुए शाहजहांपुर पहुंचे थे।

पुलिस ने होटल के उस कमरे से खून से सना भगवा कुर्ता बरामद किया है, जहां हत्यारे रूके थे। होटल के कमरे में एक नये मोबाइल फोन का डिब्बा भी मिला है। पुलिस सभी सुरागों को इकट्ठा कर कातिलों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। डीजीपी ने कहा है कि पुलिस की टीम कातिलों के पीछे-पीछे है उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जायेगा। 

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद बीजेपी और संघ से संबंधित नेताओं को अतिरिक्त सतर्कता बरतने का आग्रह किया गया है। इसके अलावा स्टेट इंटेलिजैंस को ऐसे लोगों और गिरोहों पर निगाह रखने के निर्देश दिये गये हैं जो देश और प्रदेश का माहौल खराब करने की साजिश कर सकते हैं।

Images Courtesy:Google

Tags :

NEXT STORY
Top