झारखंड से भूख से मौत पर राम विलास पासवान सख्त, बताया जघन्य अपराध

नई दिल्ली (5 जून): झारखंड के चतरा जिले में  सावित्री देवी नाम की एक महिला की मौत हो गई थी। परिवार वालों का कहना है कि भूख की वजह से सावित्री की मौत हुई। क्योंकि हमारे पास खाना खरीदने के पैसे नहीं थे। वहीं जिला प्रशासन का दावा है कि सावित्री की मौत टीबी की वजह से हुई है। सावित्री की मौत पर जारी विवाद के बीच पूरे मामले पर केंद्र सरकार सख्त नजर आ रही है। केंद्रीय खाद्य एंव उपभोक्ता मंत्री रामविलास पासवान का कहना है कि अगर झारखंड में भूख से हुई मौत हुई है तो ये जघन्य अपराध है।सरकार ने पूरे मामले के जांच के आदेश दिए हैं। केंद्रीय खाद्य एंव उपभोक्ता मामलों के सचिव को आदेश दिया गया है कि वह संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारियों को भेजकर इसकी जांच करायें। जांच के बाद इसकी रिपोर्ट सौंपी जाये। मामले की जांच के बाद सच्चाई सामने आयेगी और जो दोषी होगा उसपर सख्त कार्रवाई की जायेगी।साथ ही रामविसाल पासवान ने कहा कि झारखंड में पूर्व में भी ऐसी घटना सामने आयी थी। जांच के दौरान पाया गया कि राशन देने वाला व्यक्ति दबंग था और उसने पीड़ित को आधार कार्ड का बहाना बनाकर अनाज नहीं दिया। पासवान ने कहा कि यदि भूख से मौत की खबर सही है, तो ऐसी घटना किसी भी परिस्थिति में नहीं होनी चाहिए। उन्हें भूख से हुई मौत की जानकारी मिली है, उसके बाद उन्होंने सचिव को निर्देश दिया है कि इस मामले की जांच कर उसकी रिपोर्ट जल्द से जल्द सौंपे। उन्होंने कहा कि भूख से मरने की किसी घटना में केन्द्र निर्दोष है क्योंकि केन्द्र की तरफ से तय समय पर अनाज पहुंचाया जाता है। अब यह राज्य की जिम्मेदारी है कि वे उसको उपभोक्ता तक समय पर पहुंचाना सुनिश्चित करें।