News

पंजाब-प.बंगाल सहित 6 राज्यों का CAB लागू करने से इंकार, पूर्वोत्तर में हिंसा का दौर

पंजाब (Punjab) और प.बंगाल (W. Bengal) सहित 6 राज्यों ने CAB लागू करने से इंकार (Refuse to Implement) कर दिया है। सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल (CAB)को लेकर पूर्वोत्तर में हिंसा का दौर जारी है। प. बंगाल, केरल और पंजाब के बाद महाराष्ट्र व म. प्र.ने संकेत दिया है कि वह भी कानून को लागू नहीं करने का फैसला कर सकते हैं।

Punjab, W.Bengal, CAB, Refuse, Implement, North East, Violence

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 दिसंबर): पंजाब (Punjab) और प.बंगाल (W. Bengal) सहित छह राज्यों ने CAB लागू करने से इंकार (Refuse to Implement) कर दिया है। वहीं सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल (CAB)को लेकर पूर्वोत्तर में हिंसा का दौर जारी है। पश्चिम बंगाल, केरल और पंजाब के बाद अब महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश सरकार ने संकेत दिया है कि वह इस कानून को लागू नहीं करने का फैसला कर सकते हैं। महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष और उद्धव सरकार में मंत्री बाला साहेब थोराट के साथ एमपी के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस बात के संकेत दिए हैं।

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक को संसद में पारित करके और इसके कानून बना कर केंद्र सरकार हमें इसे मानने के लिए बाध्य नहीं कर सकती है। उधर, छत्तीसगढ़ ने भी अब इसे नहीं लागू करने का संकेत दिया है। ऐसे में अब कुल 6 राज्य ऐसे हो गए हैं, जो इस कानून के सीधे विरोध में दिख रहे हैं।

कमलनाथ ने कहा, कांग्रेस पार्टी जो भी स्टैंड नागरिकता कानून पर लेगी, हमलोग उसका पालन करेंगे। हमलोग उस प्रक्रिया का हिस्सा नहीं होना चाहते, जिसका बीज भेदभाव हो। वहीं बाला साहेब थोराट ने कहा, 'हम पार्टी नेतृत्व की नीति का पालन करेंगे।' गौरतलब है कि कांग्रेस ने इस बिल का पुरजोर विरोध किया है। उधर, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी कहा है कि इस कानून पर पार्टी नेतृत्व का निर्णय ही उनका भी निर्णय है।

इसे भी देखेंः CAB को लकेर असम में विरोध प्रदर्शन उग्र, इंटरनेट सेवाओं पर रोक, शाम से सुबह तक कर्फ्यू

इससे पहले पंजाब के सीएम कैप्टन सिंह के ऑफिस की ओर से गुरुवार को यह ऐलान किया गया कि राज्य में इसे लागू नहीं किया जाएगा। वहीं, केरल के सीएम पिनरई विजयन ने भी कहा है कि उन्हें भी यह स्वीकार नहीं है। विजयन ने इसे असंवैधानिक बताते हुए कहा कि केंद्र सरकार भारत को धार्मिक आधारों पर बांटने की कोशिश कर रही है।

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पूर्वोत्‍तर भारत के तीन राज्‍यों असम, मेघालय और त्रिपुरा में तनावपूर्ण हालात बने हुए हैं। असम में स्‍कूलों और कॉलेजों को 22 दिसंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है। सेना और पुलिस की तैनाती के बाद भी प्रदर्शनकारी लगातार कर्फ्यू का उल्‍लंघन कर रहे हैं। यहां तक कि उनपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का भी कोई असर नहीं पड़ा।

Images Courtesy:Google


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top