'मन की बात' कार्यक्रम में PM मोदी की अपील, कहा- योग की अपनी विरासत को आगे बढ़ायें

नई दिल्ली (27 जुलाई): प्रधानमंत्री ने आज एकबार फिर 'मन की बात' कार्यक्रम के जरिए देशवासियों से बात की। मन की बात कार्यक्रम के 44वें संस्करण में कहा कि खेल हमें समाज और पर्यावरण के बारे में भी जागरूक बनाते हैं। 'मन की बात' की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में सफलता पाने वाले खिलाड़ियों को शुभकामना दी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 'भारत की 6 बेटियां 250 से भी ज़्यादा दिन ‘नाविका सागर परिक्रमा’ को INSV तारिणी में पूरी दुनिया की सैर कर 21 मई को भारत लौटीं। भारत की इन बेटियां ने विभिन्न महासागरों और कई समुद्रों में यात्रा करते हुए लगभग 22,000 nautical miles की दूरी तय की। यह विश्व में अपने आप में एक पहली घटना थी। गत बुधवार (23 मई) को मुझे सभी बेटियों से मिलने और उनके अनुभव सुनने का अवसर मिला।'पीएम मोदी की बड़ी बातें...-मुझे विश्वास है कि सभी लोग ईद को पूरे उत्साह से मनाएंगे। इस अवसर पर बच्चों को विशेष तौर पर अच्छी ईदी भी मिलेगी। आशा करता हूं कि ईद का त्योहार हमारे समाज में सद्भाव के बंधन को और मजबूती प्रदान करेगा। सबको बहुत-बहुत शुभकामनाएं अब से कुछ दिनों बाद लोग चांद की भी प्रतीक्षा करेंगे। चांद दिखाई देने का अर्थ यह है कि ईद मनाई जा सकती है। रमजान के दौरान एक महीने के उपवास के बाद ईद का पर्व जश्न की शुरुआत का प्रतीक है- राजस्थान के सीकर की बस्तियों की हमारी बेटियां आज आत्मनिर्भर बन गई हैं। वे सिलाई का काम सीखने के साथ-साथ कौशल विकास का कोर्स भी कर रही हैं। आशा और विश्वास से भरी इन बेटियों को मैं उनके उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं देता हूं- यह वीर सावरकर ही थे, जिन्होंने निर्भीक होकर लिखा था कि 1857 में जो कुछ भी हुआ, वह कोई विद्रोह नहीं था बल्कि आजादी की पहली लड़ाई थी- इस मई महीने की याद एक और बात से भी जुड़ी है और वो है वीर सावरकर की बात- योग की विरासत को आगे बढ़ाएं और एक खुशहाल राष्ट्र का निर्माण करें- मेरे लिए खुशी की बात है कि मुझे भी भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट ने चैलेंज किया है और मैंने भी उनके चैलेंज को स्वीकार किया है। मैं मानता हूं ये बहुत अच्छी चीज़ है और इस तरह का चैलेंज हमें फिट रखने और दूसरों को भी फिट रहने के लिए प्रोत्साहित करेगा- दो महीने पहले जब मैंने #fitIndia की बात की थी तो मैंने नहीं सोचा था कि इस पर इतना अच्छा रिस्पोंस आएगा। इतनी संख्या में हर क्षेत्र से लोग इसके सपोर्ट में आएंगे। जब मैं फिट इंडिया की बात करता हूं तो मैं मानता हूं कि जितना हम खेलेंगे, उतना ही देश खेलेगा- जो खेल गली में खेले जाते थे वो अब कम हो गए हैं- हाल ही में 16 साल की शिवांगी पाठक, नेपाल कि ओर से एवेरेस्ट फ़तह करने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय महिला बन, शिवांगी को बहुत-बहुत बधाई।