इन चीजों को 28 से 18 फीसदी जीएसटी के स्लैब में करेगी मोदी सरकार

Photo: Google 

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 दिसंबर): 22 दिसंबर को होने वाली जीएसटी काउंसिल की बैठक में मिडिल क्लास को बड़ी राहत मिल सकती है, जिसके संकेत संकेत  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि उन्होंने जीएसटी काउंसिल से सिफारिश की है कि लग्जरी आइटम और तंबाकू सिगरेट को छोड़कर आम लोगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले दूसरे सभी आइटम्स पर 18 फीसदी या फिर उससे कम जीएसटी लगाया जाए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं कि 99% सामान या चीजें GST के 18% के कर स्लैब में रहें। उन्होंने बताया कि GST लागू होने से पहले केवल 65 लाख उद्यम रजिस्‍टर्ड थे, जिसमें अब 55 लाख की वृद्धि हुई है। आज जीएसटी व्यवस्था काफी हद तक स्थापित हो चुकी है और हम उस दिशा में काम कर रहे हैं, जहां 99% चीजें जीएसटी के 18% कर स्लैब में आएं। उन्होंने संकेत दिया कि जीएसटी का 28 प्रतिशत कर स्लैब केवल लक्जरी उत्पादों जैसी चुनिंदा वस्तुओं के लिए होगा।

इसका मतलब ये हुआ कि एसी, सीमेंट, डिजिटल कैमरा, मॉनिटर, मार्बल, सीमेंट, प्रोजेक्टर पर जो 28 फीसदी जीएसटी लगता है, उनपर आने वाले दिनों में 18 फ़ीसदी जीएसटी लगाए जाने की उम्मीद है। मतलब साफ है कि करीब 99 फ़ीसदी आइटम्स पर जीएसटी 18 फीस दी या उससे कम लगेगा

अभी इन घरेलू प्रयोग की वस्तुओं पर लगता है 28 फ़ीसदी जीएसटी:गुड

पुट्टी

टायर

एयर कंडिशन

फ्रीज

वाशिंग मशीन

बर्तन धोने की मशीन

वैक्यूम क्लीनर

शेविंग करने वाली मशीन

ट्रैक्टर

वाटर हीटर

ऑटो पार्ट और एक्सेसरी

डिजिटल कैमरा

प्रोजेक्टर

सीमेंट

वीडियो गेम्स

परफ्यूम, सेंट

ईंधन वितरण पंप

पेंट और वारनिश

मार्बल

पीएम ने कहा कि हमारा प्रयास यह सुनिश्चित करना होगा कि आम आदमी के उपयोग वाली सभी वस्तुओं समेत 99% उत्पादों को जीएसटी के 18% या उससे कम कर स्लैब में रखा जाए। हमारा मानना है कि उद्यमों के लिए जीएसटी को अधिक से अधिक सरल किया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि शुरुआती दिनों में जीएसटी अलग-अलग राज्यों में मौजूद वैट या उत्पाद शुल्क के आधार पर तैयार किया गया था। हालांकि, समय-समय पर बातचीत के बाद कर व्यवस्था में सुधार हो रहा है।