डॉक्टरों की हड़ताल से निपटते ही ममता बनर्जी को लगा एक और बड़ा झटका

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (17 जून):  सोमवार की शाम को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक हफ्ते से नाराज डॉक्टरों से समझौता करके जैसे ही हड़ताल खत्म करवाई वैसे ही उन्हें खबर मिली कि नौपारा से उनके विधायक ने टीएमसी छोड़ दी है और वो बीजेपी ज्वाइन करने जा रहे हैं। दरअसल, लोकसभा चुनाव के परिणाम घोषित होने के बाद से ही पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के लिए लगातार मुश्किलें बढ़ रही हैं। पार्टी के विधायकों और पार्षदों का पार्टी छोड़कर जाने और बीजेपी ज्वाइन करने का सिलसिला जारी है। सोमवार को नौपारा से टीएमसी विधायक सुनील सिंह सहित 12 तृणमूल कांग्रेस के पार्षदों ने पार्टी को अलविदा कह दिया है दिल्ली स्थित बीजेपी मुख्यालय पहुंचकर भाजपा में शामिल हो गए। इस अवसर पर भाजपा महासचिव कैलाश विजवर्गीय और पार्टी नेता मुकुल रॉय सभी नेताओं का स्वागत किया।

नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाने के बाद मीडिया से बात करते हुए बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, 'इस चुनाव के परिणाम के पश्चात् जिस तरह से बंगाल में हर क्षेत्र में अराजकता फैल रही है, ऐसा लगता है कि ममता जी ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है। जो आचरण जो व्यवहार वो जनता, प्रशासन और नेताओं के समक्ष दिखा रही हैं वो सामान्य नहीं हैं। आज बहुत बड़ी संख्या में टीएमसी के लोग भाजपा में आ रहे हैं और आना चाहते हैं। हर जिले में हजारों की संख्या में लोग भाजपा से जुड़ना चाहते हैं। हम हर जिले में वहां के कार्यकर्ताओं से मिलकर सहीं लोगों को पार्टी में शामिल कर रहे हैं।'

कैलाश विजयवर्गीय ने आगे कहा, 'आज हमारे बीच में टीएमसी विधायक सुनील कुमार सिंह आए हैं जो वहां के नगर पालिका के अध्यक्ष भी हैं और उनके साथ पूरी टीम जो पहले टीएमसी की नगर पालिका थी वो आज से भारतीय जनता पार्टी की हो जाएगी और उस बिल्डिंग का कलर बदल जाएगा। बंगाल की विशेषता यह है कि जिस पार्टी की नगर पालिका होती है उस पार्टी के झंडे के रंग की पुताई हो जाती है। रात में अर्जुन सिंह जी बिल्डिंग का कलर बदल देंगे।'

 बंगाल में इसी महीने की 8 जून को दार्जिलिंग नगर पालिका के 17 पार्षदों ने भाजपा का दामन थाम लिया था। ये सभी 17 पार्षद पहले गोरखा जनमुक्ति मोर्चा में थे। आपको बता दें कि कुछ समय पहले सत्ताधारी पार्टी टीएमसी के तीन विधायक और लगभग 50 पार्षद बीजेपी में शामिल हुए थेIamges Courtesy:Google