#BiharManthan: हार हुई तो मेरी, जीत हुई तो कांग्रेस की- शत्रुघ्न सिन्हा

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 अप्रैल): बिहार की राजधानी पटना में आयोजित न्यूज 24 के खास कार्यक्रम बिहार मंथन में बिहारी बाबू यानी शत्रुघ्न सिन्हा भी शामिल हुए और उन्होंने बीजेपी छोड़ने के साथ-साथ कांग्रेस में शामिल होने और लखनऊ में समाजवादी पार्टी के पक्ष में चुनाव प्रचार करने से लेकर तमाम मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखी। बीजेपी छोड़ने के मसले पर उन्होंने शायराना अंदाज में कहा कि 'कुछ तो मजबूरियां रही होंगीं, यूं ही कोई बेवफा नहीं होता'। उन्होंने कहा कि पहला प्यार कोई नहीं भूल सकता, बीजेपी में आज कुछ लोगों की वजह और उनकी नीतियों की वजह से गड़बड़ है।

पटना के पाटलीपुत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि कांग्रेस आजादी के पहले से ही देश की सबसे अहम पार्टी है। ये नेहरू, पटेल और मौलाना आजाद की पार्टी है। अगर इंदिरा गांधी जीवित होती तो शायद वो कभी बीजेपी नहीं ज्वाइन करते। साथ ही उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर विपक्ष के हमले का भी जोरदार तरीके से बचाव किया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी 'यूथ आइकन' है और कांग्रेस अध्यक्ष बनने के 1 साल के अंदर 3 राज्यों को हासिल किया है। पत्नी के लखनऊ समाजवादी पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि पहले मुझे लखनऊ से चुनाव लड़ने का ऑफर अखिलेश, मायावती की तरफ से मिला था। लेकिन मैंने पहले ही कहा था, कि सिचुएशन जो भी लोकेशन वही रहेगी। इसलिए मैने लखनऊ से चुनाव नहीं लड़ा। मैं और मेरी पत्नी अलग अलग रास्तों से हैं, मगर मंजिल एक ही है। हम दोनों देश के लिए काम कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने दावा किया कि लखनऊ में मेरी पत्नी पूनम और गृहमंत्री राजनाथ के बीच जबरदस्त मुकाबला होगा।

नोटबंदी को लेकर एकबार फिर शत्रुघ्न सिन्हा ने प्रधानमंत्री मोदी पर हमला किया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से देश का बेडा गर्क हुआ, अपने पैसे के लिए लोग मरने लगे। फिर GST आया 'नीम के ऊपर करेला'। साथ ही उन्होंने कहा कि 'अगर सच कहना बगावत है तो हां हम बागी हैं।'

शत्रुघ्न सिन्हा की बड़ी बातें...- कुछ तो मजबूरियां रही होंगीं, यूँ ही कोई बेवफा नहीं होता- कांग्रेस नेहरू, पटेल, मौलाना आजाद की पार्टी है- भारत की आजादी में कांग्रेस सबसे अहम पार्टी रही है- प्रधानमंत्री बनने के लिए खास डिग्री की जरुरत नहीं, कोई भी बन सकता है पीएम, बस संख्या हो- राहुल गांधी 'यूथ आइकन' है, कांग्रेस अध्यक्ष बनने के 1 साल के अंदर 3 राज्यों को हासिल किया- अगर इंदिरा गांधी जीवित होती तो शायद मैं कभी बीजेपी नहीं ज्वाइन करता- मोदी फिर से पीएम बनेंगे या नहीं , ये जनता निर्णय करेगी- अखिलेश और मायावती काबिल और सक्षम है, पीएम बन सकते हैं- मैं और मेरी पत्नी अलग अलग रास्तों से हैं, मगर मंजिल एक ही है। हम दोनों देश के लिए काम कर रहे हैं- मुझे लखनऊ से चुनाव लड़ने का ऑफर अखिलेश, मायावती ने पहले ही दिया था। मगर मैंने पहले ही कहा था, सिचुएशन जो भी लोकेशन वही रहेगी- कांग्रेस ग्रांड ओल्ड पार्टी है- कांग्रेस देश की सबसे पुरानी और सबसे शानदार पार्टी है- कोई प्यार भूलता है, पहला प्यार कोई नहीं भूल सकता, बीजेपी में आज कुछ लोगों की वजह और उनकी नीतियों की वजह से गड़बड़ है- मुझपर न कोई इल्जाम न कोई भ्रष्टाचार का आरोप- BJP परिवार के शीघ्र लोगों का हमेशा आदर करता रहूंगा, बाकि छोड़ो कल की बात- मोदी लहर नहीं है, कुछ लोगों के लिए 'मोदी कहर' साबित होंगे- बालाकोट में कितने मरे, ये आप बता दो, इससे सेना को भी ख़ुशी होगी- शत्रुघ्न सिन्हा बोले, राफेल पर अगर मोदी सरकार जवाब नहीं देगी तो जनता कहेगी ही चौकीदार- मोदी दुनिया के ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने 5 साल में एक बार भी प्रेस कांफ्रेंस नहीं की  - ग्लैमर में पावर है मगर पॉलिटिक्स में पावर और अनलिमिटेड ग्लैमर है- मैं समय रहते सचेत हो गया, बीजेपी ने वरिष्ठ नेताओं का अपमान किया,कांग्रेस में मार्गदर्शक मंडल की ज़रूरत नहीं  - शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी से पूछा,  क्यों मंत्री नहीं बनाया? बीजेपी के चयन की परिभाषा क्या है, मंत्री बन भी जाता तो क्या होता, सारा काम तो PMO से होता है- नोटबंदी से देश का बेडा गर्क हुआ, अपने पैसे के लिए लोग मरने लगे। फिर GST आया 'नीम के ऊपर करेला', अगर सच कहना बगावत है तो हां हम बागी हैं  - बिहार में मैंने बहुत विकास किया है- मैं पीएम मोदी से पूछना चाहूंगा, आपकी सेहत का राज़ क्या है? आप कैसे एक जहाज़ से दूसरे जहाज़ पर उछलकूद कर लेते हैं- मैं गिरिराज सिंह को व्यक्तिगत तौर पर जानता भी हूं और मानता भी हुं, इस लिए उनके खिलाफ कुछ नहीं बोलूंगा- मोदी पहले से रिहर्सल करके इंटरव्यू देते हैं - मैं पीएम मोदी से पूछना चाहूंगा, आपकी सेहत का राज़ क्या है? आप कैसे एक जहाज़ से दूसरे जहाज़ पर उछलकूद कर लेते हैं- अगर आप राष्ट्रहित को देखें तो मुझे जरूर देखें, मैंने अपने लिए एक पैसा नहीं मांगा- भले मैं कांग्रेस में देर से आया हूं, मगर दुरुस्त आया हूं- अगर मैं पटना साहिब से हार जाता हूँ, तो ये हार मेरी होगी कांग्रेस की नहीं, और अगर जीते तो जीत कांग्रेस और बिहार की जनता की होगी - भले मैं कांग्रेस में देर से आया हुं, मगर दुरुस्त आया हुं- अगर मैं पटना साहिब से हार जाता हुं, तो ये हार मेरी होगा कांग्रेस की नहीं, और अगर जीते तो जीत कांग्रेस और बिहार की जनता की होगी- नोटबंदी से देश का बेडा गर्क हुआ, अपने पैसे के लिए लोग मरने लगे। फिर GST आया 'नीम के ऊपर करेला', अगर सच कहना बगावत है तो, मैं बागी हूं- लखनऊ में मेरी पत्नी पूनम और गृहमंत्री राजनाथ के बीच जबरदस्त मुकाबला होगा।