News

पैरोल पर आकर बम बनाना सीख रहा था जलीस अंसारी, पूछताछ में किए बड़े खुलासे

देश (India) में 50 से अधिक बम धमाकों के आरोपी हिजबुल आतंकी जलीस अंसारी (Jalis Ansari) से पूछताछ में खुफिया एजेंसियों ने कई अहम खुलासे किए हैं। दो दिन पहले कानपुर (Kanpur) से अरेस्ट (Arrested) हुए जलीस अंसारी

Jalis Ansari, जलीस अंसारी

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(20 जनवरी): देश (India) में 50 से अधिक बम धमाकों के आरोपी हिजबुल आतंकी जलीस अंसारी (Jalis Ansari) से पूछताछ में खुफिया एजेंसियों ने कई अहम खुलासे किए हैं। दो दिन पहले कानपुर (Kanpur) से अरेस्ट (Arrested) हुए जलीस अंसारी (Jalis Ansari) से पूछताछ में पता चला है कि परोल की मियाद के 21 दिनों में उसने बम बनाने की कई और तकनीक सीखी थी। कानपुर (Kanpur) से गिरफ्तार जलीस से एसटीएफ की टीम ने हाल ही में आठ घंटे तक पूछताछ की थी। इसके बाद जलीस को महाराष्ट्र एटीएस की टीम को तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड पर सौंप दिया। 

एटीएस अधिकारियों ने ने जलीस से पूछताछ के बाद बताया है कि वह पैरोल मिलने के बाद इंटरनेट के जरिए 21 दिनों तक बम बनाने के नए तरीके खोज रहा था। 21 दिन की पैरोल पर बाहर आया डॉ. जलीस अंसारी उर्फ डॉक्टर बम नई और सस्ती तकनीक से बम बनाना सीख रहा था। एसटीएफ और मुंबई पुलिस की पूछताछ में उसने यह कबूला है। उसने बताया कि वह सस्ती और ऐसी सामग्री की तलाश में था, जिस पर लोगों को शक न हो और आसानी से मिल जाए।

पास मिली डायरी से हुए अहम खुलासे

इस जानकारी की तस्दीक जलीस के पास मिली एक डायरी से भी हुई, जिसमें उसने सस्ती तकनीक से बम बनाने के तरीकों और जरूरी सामान को नोट किया था। उसने पूछताछ में बताया कि 1989 में उसने रईस के कमरे में अब्दुल करीम टुंडा से बम बनाना सीखा था। बम बनाते समय उसका मुंह जल गया था।

जलीस अंसारी यूं बन गया 'डॉ. बम'

अंसारी के ऊपर आरोप है कि देशभर में 50 से ज्यादा बम धमाकों में उसकी भूमिका थी। इसलिए उसे डॉ. बम कहा जाने लगा। उसे सबसे पहले 1994 में सीबीआई ने राजधानी एक्सप्रेस में बम लगाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। वह पुणे के ब्लास्ट में भी आरोपी है। आरोप है कि यहां 1992 में बाबरी मस्जिद कांड के बाद उसने अपने साथियों के साथ मिलकर बम लगाए थे। सबसे ताजा फैसले में गिरणा नदी में बम धमाके का एक्सपेरिमेंट करने के अपराध में उसे मालेगांव के एक कोर्ट ने 2018 में 10 साल जेल की सजा सुनाई थी।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top