News

दोपहर ढाई बजे निगम बोध घाट पर होगा शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की कद्दावर नेता शीला दीक्षित का आज दोपहर ढाई बजे निगम बोध घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा। वह 81 वर्ष की थीं

sheila-dixit

Image Credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 जुलाई): दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की कद्दावर नेता शीला दीक्षित का आज दोपहर ढाई बजे निगम बोध घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा। वह 81 वर्ष की थीं। दीक्षित दिल्ली में सबसे लम्बे समय तक काम करने वाली मुख्यमंत्री रही थीं। दीक्षित ने 1998 से 2013 तक दिल्ली में मुख्यमंत्री पद सम्भाला था। वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं। कांग्रेस की जानीमानी हस्ती रही शीला दीक्षित का जन्म पंजाब के कपूरथला में हुआ था। उनका जन्म 31 मार्च 1938 को हुआ था। दिल्ली के कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से उनकी पढाई की शुरुआत हुई थी। यहां से पढाई पूरी करने के बाद  दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से मास्टर्स ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की। शीला दीक्षित को दिल्ली का चेहरा बदलने का श्रेय दिया जाता है। उनके कार्यकाल में दिल्ली में विभिन्न विकास कार्य हुए।

PM Modiशनिवार सुबह शीला दीक्षित को तबीयत बिगड़ने पर राजधानी के फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. अशोक सेठ ने बताया कि इलाज के दौरान दोपहर 3.15 बजे शीला दीक्षित को कॉर्डियक अरेस्ट आया। इसके बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। शीला दीक्षित की पार्थिव देह उनके पूर्वी निजामुद्दीन स्थित आवास पर अंतिम दर्शन के लिए रखी गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सोनिया गांधी, विजय गोयल, ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कई नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। रविवार सुबह 11.30 बजे के बाद उनकी अंतिम यात्रा निगम बोध घाट के लिए निकलेगी। इससे पहले अंतिम दर्शन के लिए शीला दीक्षित का शव AICC दफ्तर  पर रखा जाएगा। शीला दीक्षित उधर, केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में दो दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया है। कांग्रेस पार्टी ने कहा- तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित ने दिल्ली को पूरी तरह बदल दिया था। हमारी संवेदनाएं उनके परिवार व मित्रों के साथ हैं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी दिल्ली की पूर्व CM और कांग्रेस नेता शीला दीक्षित के निधन पर दुख व्यक्त किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी शीला दीक्षित के निधन पर दुख व्यक्त किया। उन्होंने ट्वीट किया, शीला दीक्षित जी के निधन की खबर सुनकर दुखी हूं। उन्होंने दिल्ली के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। मेरी संवेदनाएं उनके परिजनों और समर्थकों के साथ है।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शीला दीक्षित के निधन पर कहा कि मैं सदमे में हूं। उन्होंने कहा कि देश ने बेहतरीन नेता खो दिया।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शीला दीक्षित के निधन पर दुख व्यक्त किया। राहुल ने कहा कि मुझे कांग्रेस पार्टी की प्यारी बेटी शीला दीक्षित जी के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ। उनके परिवार और दिल्ली के नागरिकों के प्रति इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदना जिन्हें उन्होंने निस्वार्थ भाव से 3 टर्म सीएम के रूप में सेवा दी।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि शीला दीक्षित जी के निधन से गहरा दुख हुआ। उन्हें मुझसे बहुत स्नेह था। उन्होनें दिल्ली और देश के लिए जो कुछ भी किया, लोग उसे याद रखेंगे।  वह पार्टी की एक बड़ी नेता थीं। पार्टी के प्रति देश की राजनीति में और विशेष रूप से दिल्ली के लिए उनका योगदान बहुत ज्यादा है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शीला दीक्षित के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा- उनका निधन दिल्ली के लिए बहुत बड़ी क्षति है। दिल्ली के विकास में उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top