News

कश्मीर पर अमेरिकी सीनेटर की विदेश मंत्री जयशंकर ने बोलती की बंद

जर्मनी में हो रहे म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कश्मीर मुद्दे पर अमेरिका को करारा जवाब दिया है। एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिकी सीनेटर को कहा कि 'चिंता मत कीजिए। एक लोकतांत्रिक देश है, जो इसे सुलझा लेगा और आप जानते हैं कि वह देश कौन सा है ?'

S Jayshankar, US Senator

नई दिल्ली (15 फरवरी): कश्मीर (Kasahmir) के मुद्दे पर बयानबाजी करने वाले अमेरिकी सीनेटर (US Senater) लिंड्से ग्राहम को भारत ने करारा जवाब दिया है। भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने अमेरिकी सीनेटर लिंड्से ग्राहम (Lindsey Graham) को ये जवाब दिया है। सीनेटर ने कहा था कि दो लोकतंत्र (Democracies) मिलकर मामले को सुलझा लें। जिसपर एस जयशकंर ने जवाब दिया कि इस मामले को एक ही लोकतांत्रिक देश सुलझा सकता है। एस जयशंकर का दो टूक बयान सुनकर सीनेटर लिंड्से ग्राहम दो मिनट में ही वहां से चले गए। 

दरअसल, जर्मनी के म्‍यूनिख में इस समय म्‍यूनिख सिक्‍योरिटी कॉन्‍फ्रेंस का आयोजन हो रहा है। इस मौके पर भारत से विदेश मंत्री एस जयशंकर पहुंचे हैं। जम्‍मू कश्‍मीर के मुद्दे पर एस जयशंकर ने कई पहलुओं पर भारत का रुख पेश किया तो वहीं यूनाइटेड नेशंस (यूएन) पर भी सवाल उठाए हैं। वहीं, एक अमेरिकी सीनेटर ने जब जम्‍मू कश्‍मीर के मुद्दे पर विदेश मंत्री को घेरने की कोशिश की तो जयशंकर ने उन्‍हें भी करारा जवाब दे दिया। अमेरिकी सीनेटर लिंडसे ग्राहम ने कश्‍मीर का मसला उठाते हुए कहा, 'जब बात कश्‍मीर की होती है तो मुझे नहीं पता कि यह कैसे खत्‍म होगा। लेकिन इस बात को सुनिश्चित करना होगा कि दो लोकतंत्र इसे अलग-अलग तरह से खत्‍म करेंगे।' इस पर जयशंकर ने जवाब देते हुए कहा कि 'आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है सीनेटर। एक लोकतंत्र ही इसे सुलझा लेगा और आप जानते हैं कि वह कौन सा है।' एस जयशंकर का दो टूक बयान सुनकर सीनेटर एस जयशकंर दो मिनट में ही वहां से चलते बने। 

इस दौरान उन्होंने तुर्की-पाकिस्तान की संयुक्त घोषणापत्र का भी जवाब दिया। एस जयशंकर ने कहा कि हमारा तुर्की से आग्रह है कि वो कश्मीर के मसले को लेकर हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप ना करे। उन्होंने कहा कि, तुर्की को पाकिस्तान का समर्थन करने से पहले इस तथ्य का ध्यान में रखना चाहिए कि वो सीमापार आतंकवाद का बढ़ावा दे रहा है। साथ ही एस जयशंकर ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा है।

इतना ही नहीं भारतीय विदेश मंत्री में संयुक्त राष्ट्र संघ पर भी सवाल उठाया। एस जयशंकर ने म्‍यूनिख में कहा, 'यूनाइटेड नेशंस (यूएन) की विश्‍वसनीयता पहले की तरह अब नहीं रह गई है ताकि बहुत ही हैरानी वाली बात नहीं है। जब आप इस बारे में अपनी रोजाना की जिंदगी में सोचते हो तो पता लगता है कि यहां पर बहुत सी चीजें ऐसी हैं जो 75 साल पुरानी हैं। आज दुनिया में नई चुनौतियां हैं, तकनीकी से जुड़ी चुनौतियां और आपसी संपर्क बनाने की चुनौतियां।'


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top