News

अयोध्या में राम मंदिर पर संघ का नया मिशन

अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण के लिए आज से संकल्प रथ यात्रा का शुभारंभ हो रहा है। ये यात्रा स्वदेशी जागरण मंच आयोजित कर रहा है। रथ यात्रा कार्यक्रम सुबह 11 बजे झंडेवाला मंदिर करोलबाग से शुरु होकर दिल्ली में घूमेगी

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (1 दिसंबर): अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण के लिए आज से संकल्प रथ यात्रा का शुभारंभ हो रहा है। ये यात्रा स्वदेशी जागरण मंच आयोजित कर रहा है। रथ यात्रा कार्यक्रम सुबह 11 बजे झंडेवाला मंदिर करोलबाग से शुरु होकर दिल्ली में घूमेगी। उसके बाद 9 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान विशाल धर्मसभा का आयोजन करेगी। रथ यात्रा के आयोजन की जिम्मेदारी आरएसएस के संगठन स्वदेशी जागरण मंच को दी गई है। विश्व हिंदू परिषद ने हाल ही में अयोध्या में ' धर्म सभा ' का आयोजन करवाया था। इसमें देशभर के संतों ने हिस्सा लिया था। धर्म सभा में अयोध्या में राम मंदिर बनाने की मांग उठाई गई थी।

आपको बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, वीएचपी और संत समाज की ओर से लगातार मोदी सरकार पर दबाव बनाया जा रहा है कि सरकार तुरंत कानून बनाकर राम मंदिर का निर्माण करें। वहीं सरकार से मांग की जा रही है कि अध्यादेश लाकर या कानून बनाकर इसका हल निकाला जाए।  गौरतलब है कि विश्व हिंदू परिषद ने हालही में अयोध्या में 'धर्म सभा' का आयोजन करवाया था। इसमें देशभर के संतों ने हिस्सा लिया था। धर्म सभा में अयोध्या में राम मंदिर बनाने की मांग उठाई गई थी। सरकार से मांग की गई थी कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए अध्यादेश लाया जाए। इसी दिन शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे भी अयोध्या पहुंचे थे। अयोध्या में उद्धव ठाकरे ने मोदी सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि अगर राम मंदिर नहीं बना तो दोबारा बीजेपी सरकार नहीं आएगी।

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था धैर्य का समय अब खत्म हुआ और अगर उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मामला उच्चतम न्यायालय की प्राथमिकता में नहीं है तो मंदिर निर्माण कार्य के लिये कानून लाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि, 'एक साल पहले मैंने स्वयं कहा था कि धैर्य रखें। अब मैं ही कह रहा हूं कि धैर्य से काम नहीं होगा। अब हमें लोगों को एकजुट करने की जरूरत है। अब हमें कानून की मांग करनी चाहिए।' साथ ही संघ प्रमुख ने कहा था कि, 'चाहे जो भी कारण हो क्योंकि अदालत के पास समय नहीं है या राम मंदिर मामला उनकी प्राथमिकता में नहीं है अथवा संभवत: वह समाज की संवेदनशीलता को नहीं समझ पा रही है। ऐसे में सरकार को चाहिए कि वह इस बारे में विचार करे कि मंदिर निर्माण के लिये कैसे एक कानून लाया जाये। कानून जल्द से जल्द लाया जाना चाहिए।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top