News

NIA संशोधन बिल पर गरमागरम बहस,गृहमंत्री और ओवैसी में तनातनी

भाजपा सांसद सत्यपाल मलिक पटल पर अपनी बात रख रहे थे इस दौरान ओवैसी खड़े होकर अपना विरोध जताने लगे। इसके बाद गृहमंत्री भी खड़े हो गये और उन्होंने ओवैसी से कहा, 'जब ए. राजा बोल रहे थे तो ओवैसी ने क्यों

न्यूज 24 ब्यूरो, पटना (15 जुलाई): एआईएमआईएम के सासंद असदउद्दीन ओवैसी ने संसद में कहा कि गृहमंत्री अमित शाह अंगुली दिखा कर डराते हैं। ओवैसी ने कहा कि वो डराना छोड़ें। क्यों कि वो सिर्फ गृहमंत्री हैं भगवान नहीं हैं। दर असल  लोकसभा ने सोमवार को एनआईए को शक्तिशाली बनाने वाला ‘राष्ट्रीय अन्वेषण अधिकरण संशोधन विधेयक 2019’ पारित हो गया है। इस विधेयक में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को भारत से बाहर किसी अनुसूचित अपराध के संबंध में मामले का पंजीकरण करने और जांच का निर्देश देने का प्रावधान किया गया है। जब सदन में इस विधेयक पर चर्चा हो रही थी तो इस दौरान गृह मंत्री अमित शाह और एआईएमआईएम नेता ओवैसी के बीच गरमागरम संवाद हुआ।  

दरअसल भाजपा सांसद सत्यपाल मलिक पटल पर अपनी बात रख रहे थे इस दौरान ओवैसी खड़े होकर अपना विरोध जताने लगे। इसके बाद गृहमंत्री भी खड़े हो गये और उन्होंने ओवैसी से कहा, 'जब ए. राजा बोल रहे थे तो ओवैसी ने क्यों नहीं टोका? वो भाजपा के सदस्य को क्यों टोक रहे हैं? अलग अलग मापदंड नहीं होना चाहिए।' इसके बाद ओवैसी ने कहा कि आप गृह मंत्री हैं डराइए मत मैं डरने वाला नहीं हूं जिसके जवाब में में अमित शाह ने कहा, 'किसी को डराया नहीं जा रहा है, लेकिन अगर डर जेहन में है तो क्या किया जा सकता है।' अमित शाह ने कहा, 'मोदी सरकार की एनआईए कानून का दुरूपयोग करने की न तो कोई इच्छा है और न ही कोई मंशा है।'

सदन की कार्रवाई के बाद मीडिया से बात करते हुए एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, 'जो भी उनके (भाजपा के) फैसले का समर्थन नहीं करता है, उसे वे राष्ट्रविरोधी करार दे देते हैं। क्या उन्होंने नैशनल और ऐंटी नैशनल की दुकान खोली हुई है? अमित शाह उंगली दिखाकर हमें धमकी देते हैं, लेकिन वह केवल गृह मंत्री हैं, भगवान नहीं।'

 इस विधेयक में इसमें भारत से बाहर किसी अनुसूचित अपराध के संबंध में एजेंसी को मामले का पंजीकरण और जांच का निर्देश देने का प्रावधान किया गया है।  इसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार और राज्य सरकारें अधिनियम के अधीन अपराधों के विचारण के मकसद से एक या अधिक सत्र अदालत, या विशेष अदालत स्थापित करें।

सदन में हुई चर्चा के दौरान गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि आतंकवाद से निपटने के लिए इस विधेयक का राष्ट्रहित में मजबूत बनाना है। उन्होंने कहा कि एनआईए को और अधिक शक्तिशाली बनाया जाएगा। लोकसभा में चर्चा के बाद ध्वनिमत से यह विधेयक पारित हो गया और विपक्ष के संशोधनों को खारिज कर दिया गया।

Images Courtesy:Google


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top