News

पंजाब में RSS प्रचारकों की हत्या ISI और खालिस्तानी ग्रुप ने करवाईं

नई दिल्ली ( 7 दिसंबर ): पंजाब में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारकों के पीछे पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI और खालिस्तानी ग्रुप का हाथ है। एक राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए जांच में यह सामने आया है। जाचं में पता चला है कि पंजाब में पिछले दो वर्षों में हुई आरएसएस कार्यकर्ताओं, डेरा सच्चा सौदा के अनुयायियों और एक पादरी की हत्या के पीछे खालिस्तान का हाथ था जिसका इस्तेमाल पाकिस्तान की इंटेलिजेंटस एजेंसी ISI ने सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने के लिए किया था। जांच में यह भी खुलासा हुआ कि ये हत्याएं तनाव बढ़ाने और आतंकवाद को बढ़ावा देने के मकसद से कराई गईं थीं। ISI ने खालिस्तान लिबरेशन फोर्स के नेता हरमिंदर सिंह मिंटू और हरमीत सिंह को पाकिस्तान में सुरक्षा दिए जाने का भी ऑफर दिया था। 

आरएसएस प्रचारक रविंदर गोसाईं की हत्या मामले में रमनदीप और हरदीप सिंह से पूछताछ के दौरान इन बातों का पता चला है। रविंदर की हत्या अक्टूबर में हुई थी। दोनों आरोपियों ने हत्या की बात कबूल की है और यह भी बताया कि उन्होंने 6 अन्य लोगों की भी हत्या की थी। इनमें आरएसएस स्टेट वाइस प्रेजिडेंट जगदीश गगनेजा, शिवसेना नेता दुर्गा प्रसाद गुप्त, हिंदू तख्त के नेता अमित शर्मा, डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी सतपाल सिंह और उनका बेटा शामिल है। इसके अलावा जुलाई में एक पादरी की भी हत्या की थी। उन्होंने कुछ लोगों की हत्या का प्रयास भी किया था। 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जल्द एनआईए इन सभी केसों की जांच करेगी। बताया गया है कि रमनदीप और हरदीप को 2015 में कॉन्ट्रैक्ट किलर बनाया गया था। यह सब ऑनलाइन प्रक्रिया के द्वारा हुआ था। इन दोनों से पॉजिटिव रिस्पॉन्स मिलने पर ISI और KLF ने कथित तौर पर इन्हें हवाला के जरिए 40 लाख रुपये भेजे। सूत्रों से पता चला है कि रमनदीप मार्च 2015 में ट्रेनिंग के लिए UAE भी गया था। 


Related Story

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top