News

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत पहुंचे, रूसी डिफेंस डील पर होगी बात

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के मंगलवार रात दिल्ली पहुंचने पर भारत ने कहा है कि वो रूस से संबंधों को समाप्त नहीं कर सकता। इसके रूस के मिसाइल सिस्टम एस-400 खरीदने के लिए भारत को अमेरिकी प्रतिबंधों से भी छूट मिलती है। माना जा रहा है कि माइक पोम्पियो बुधवार को वह पीएम नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर से मुलाकात करेंगे। इस दौरान रूस से डिफेंस डील पर भी चर्चा हो सकती है

 न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (25 जून): अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के मंगलवार रात दिल्ली पहुंचने पर भारत ने कहा है कि वो रूस से संबंधों को समाप्त नहीं कर सकता। इसके रूस के मिसाइल सिस्टम एस-400 खरीदने के लिए भारत को अमेरिकी प्रतिबंधों से भी छूट मिलती है। माना जा रहा है कि माइक पोम्पियो बुधवार को वह पीएम नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर से मुलाकात करेंगे।  इस दौरान रूस से डिफेंस डील पर भी चर्चा हो सकती है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर ट्रंप प्रशासन के पास हमारे हित में छूट देने का पर्याप्त मौका है।रक्षा सूत्रों ने कहा कि रूस के साथ भारत अपने पुराने रक्षा संबंधों को खत्म नहीं कर सकता है। इससे साफ है कि बुधवार को जब भारतीय विदेश मंत्री अपने अमेरिकी समकक्ष से मिलेंगे तो भारत का जोर इस बात पर होगा कि अमेरिका उसे छूट दे। इस मुद्दे पर अमेरिका के साथ निजी एवं सार्वजनिक स्तर पर चर्चा हुई है और वॉशिंगटन के लिए यह थोड़ी चिंता की बात है। भारत ने पिछले साल अक्टूबर में 40 हजार करोड़ रुपये की लागत से मिसाइल प्रणाली खरीदने के लिए रूस से समझौता किया था। भारत ने अमेरिकी चेतावनियों को नजरअंदाज करते हुए इस समझौते को आगे बढ़ाया है। सूत्रों ने बताया कि अमेरिका उन परिस्थितियों से अच्छी तरह वाकिफ है जिनके कारण भारत एस-400 जैसी प्रणाली खरीदने के लिए बाध्य है।

उन्होंने कहा कि भारतीय पक्ष ने अमेरिकी पक्ष को इस बारे में अच्छी तरह से बता दिया है कि और वे भारत की जरूरतों को समझते हैं। भारतीय पक्ष का मानना है कि वह उन जरूरतों को पूरा करता है, जिसके तहत उसे अमेरिका के प्रतिबंध कानून से छूट मिलती है। भारतीय खेमे का कहा, हम छूट के लिए अमेरिकी कानूनों की शर्तों को पूरा करते हैं। हम बातचीत जारी रखेंगे।

सरकारी सूत्र ने आगे कहा कि सामरिक रूप से महत्वपूर्ण अमेरिका-इंडिया संबंधों को ध्यान में रखते हुए अमेरिकी सरकार को कानूनी और राजनीतिक रुख का मेल बनाना होगा।  भारत सरकार ने पहले ही कह दिया है कि अगले साल अक्टूबर से उसे रूस से मिसाइल सिस्टम मिलने लगेंगे और आपूर्ति अप्रैल 2023 तक पूरी हो जाएगी।

Images Courtesy: Google


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top