News

#GujaratManthan: गुजरात चुनाव में बीजेपी 150 सीटें जीतेगी- अमित शाह

अहमदाबाद (2 दिसंबर): गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी घमासान जोरों पर है। इसी कड़ी में गुजरात का सरदार कौन बनेगा को लेकर न्यूज 24 ने खास कार्यक्रम गुजरात मंथन का आयोजन किया। इस खास कार्यक्रम में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी हिस्सा लिया। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि 2014 के बाद जितने भी चुनाव हुए है उनमें बीजेपी का जनाधार बढ़ा और गुजरात में उनकी पार्टी को कम से कम 150 सीटें आएंगी। ़

अमित शाह की बड़ी बातें... 

- अगर वही करिश्मा करने में हम यहां कामयाब होते हैं तो 165 सीटें आती है, जिनको मैंने कम करके 150 कर दिया है - 2014 के बाद जितने भी चुनाव हुए हैं, उनमें बीजेपी ने अपने जनाधार को बढ़ाया है - 19 हजार गांवों में बीजेपी सरकार ने 24 घंटे बिजली दी है - मोदी के पीएम बनने के बाद नर्मदा का काम भी खत्म हो गया है - राहुल गांधी एक स्कूल बंद होने का पता दे दें - गुजरात में 3 लड़के हैं तो यूपी में भी तो 2 लड़के थे। कांग्रेस ने अपना चुनाव आउटसोर्स किया है - कांग्रेस गुजरात में जातिवाद करके चुनाव जितना चाहती है - गुजरात जातिवादी झांसे में नहीं आने वाला है और मोदी जी के विकास के मुद्दे पर आगे बढ़ेगा - कांग्रेस 2 महीने पहले बोलती थी कि विकास पागल हो गया, लेकिन अब नहीं बोलते - राहुल गांधी को कोई ठीक से आंकड़े तो दे दे - गुजरात ने नीति आयोग की सीमा का अतिक्रमण कभी नहीं किया - हम तो पहले भी मंदिर जाते थे और आज भी जाते हैं। मैं आज भी सोमनाथ गया और किसी ने नहीं पूछा। राहुल चुनाव के वक्त जाते हैं। मैं उनसे कहता हूं कि चुनाव के बाद भी मंदिर जाया करें - राहुल से कोई नहीं पूछता है उनका धर्म, वह खुद जनेऊ दिखाते हैं - मैं सात पुश्तों से हिंदु हूं - 2014 के बाद यूपी चुनावों ने तय कर दिया है कि वंशवाद को खत्म कर दिया है और विकास पर वोटिंग होती है  - विपक्ष चाहे छोटा हो या बड़ा हमारा व्यवहार लोकतांत्रिक होगा। बीजेपी कभी इस देश पर इमरजेंसी नहीं थोपेगी  - मेरे ऊपर पहले बहुत आरोप लगाए गए, लेकिन जनता जानती है कि सच क्या है। जय शाह के ऊपर लगे आरोपों पर मैं सिर्फ यह कहना चाहूंगा कि राहुल गांधी नहीं जानते कि टर्न ओवर क्या है और मुनाफा क्या है  - यूपी निकाय चुनावों में जीत और बढ़ी जीडीपी का हमें फायदा होगा। यूपी चुनावों में जीत ने दिखा दिया है कि मोदी पर लोगों का विश्वास क्या है - अमेठी में राहुल गांधी की पार्टी हार जाती है, शायद गुजरात की जगह वहां पर भी एक दो चक्कर लगा देते तो कुछ हो जाता - जीएसटी में शुरुआती दिक्कतें थी, लेकिन लोगों से संवाद करके उसकी कमियों में सुधार किया - जीएसटी का एक भी प्रस्ताव विरोध के साथ पारित नहीं हुआ। जीएसटी में कांग्रेस के 6 मुख्यमंत्रियों ने साथ बैठकर इसे पास कराया। राहुल गांधी ये कह दें कि उनके 6 सीएम उनकी सुनते ही नहीं  - गुजरात में विजय रुपाणी के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा जा रहा है - गुजरात में विजय रुपाणी और नीतीन पटेल की टीम काम कर रही है  - पटेल आंदोलन तो बहुत बड़ा था, लेकिन छोटे से आंदोलन से हम हिल जाते हैं, क्योंकि हम घूमने विदेश नहीं चले जाते - अब पटेलों को पता चल रहा है कि आंदोलन की कोई बात नहीं करता और अब वो लोग कांग्रेस की गोदी में जाकर बैठ गए - मैं पटेल समुदाय से वादा करता हूं कि एक मौका और दीजिए हम विकास की गति को तेजी से आगे ले जाएंगे - यूपी में शमशान और कब्रिस्तान का जो उदाहरण पीएम ने दिया था, उसके पीछे मकसद था कि विकास के काम पर धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करना चाहिए - इस देश के संसाधन पर किसी का अधिकार है वो गरीब का है। किसी विशेष समुदाय नहीं है - कांग्रेस के पास ले जाने को कुछ नहीं है, हमारे पास ले जाने बहुत नेता है हम तो ले जाएंगे - हम जीएसटी को ऐसा बना रहे है, जिससे लोगों को तकलीफ ना हो - हार को पचाना सीखना चाहिए, हार का ठीकरा ईवीएम पर नहीं फोड़ना चाहिए। अखिलेश और मायावती भी ईवीएम से चुनाव जीते - ईवीएम कलेक्टर के पास थी और अखिलेश की सरकार थी। ईवीएम कलेक्टर के पास रहती है, ऐसे में हमें हारना चाहिए था सपा को नहीं

- मैं खुद की तुलना चाणक्य से नहीं कर सकता, वो बहुत बड़े थे - गुजरात की जनता ने पानी की किल्लत, दंगे और कफ्यू देखे हैं - हर चुनाव का एक राजनैतिक महत्व होता है, ऐसे में गुजरात चुनाव का भी महत्व है - कांग्रेस के समय में एक भी साल 10.6 जीडीपी नहीं आई तो औसतन कहा से आएगी - हमें अभी जीडीपी का एवरेज निकालने की जरूरत नहीं है, हम 2014 में निकालेंगे


Related Story

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top