News

गुजरात की तरफ तेजी से आगे बढ़ रहा चक्रवाती तूफान 'वायु', अलर्ट जारी

लक्षद्वीप द्वीप समूह के पास अरब सागर के ऊपर बना चक्रवाती तूफान 'वायु' की रफ्तार बढ़ने लगी है। इस तूफान के बुधवार तक गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में तब्दील होने की संभावना है। यह उत्तर-पश्चिम की तरफ से गुजरात की ओर तेजी से बढ़ रहा है

Cyclone VayuImage Credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 जून): लक्षद्वीप द्वीप समूह के पास अरब सागर के ऊपर बना चक्रवाती तूफान 'वायु' की रफ्तार बढ़ने लगी है। इस तूफान के बुधवार तक गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में तब्दील होने की संभावना है। यह उत्तर-पश्चिम की तरफ से गुजरात की ओर तेजी से बढ़ रहा है। मौसम विभाग की मानें तो इस तूफान के साथ देश के पश्चिमी तटों में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक अब ये चक्रवाती तूफान गुजरात की तरफ बढ़ रहा है। जिसके कारण गुजरात के तटीय इलाकों में चक्रवात का खतरा मंडरा रहा है। चक्रवात की वजह से सौराष्ट्र और कच्छ क्षेत्र में करीब 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलेने और भारी बारिश की संभावना है। मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है।

चक्रवाती तूफान 'वायु' लगातार उत्तर और उत्तर-पश्चिम दिशा में गुजरात की ओर बढ़ रहा है। लक्षद्वीप के दक्षिणपूर्व और पूर्व-मध्य अरब सागर में बने डिप्रेशन की वजह से गुजरात में भारी बारिश की संभावना जताई जा रही है। इसकी वजह से केरल के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिल सकती है, जबकि कर्नाटक के तटीय इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। भारत के मौसम विभाग ने चक्रवात वायु पर एक ऑरेंज अलर्ट जारी किया। ऑरेंज अलर्ट का मतलब होता है कि यह तूफान जमीनी स्तर पर बहुत ज्यादा नुकसान नहीं करेगा। हालांकि समुद्र के ऊपर इस तूफान के मंडराने को लेकर मछुआरों के लिए 13 जून तक अलर्ट जारी किया गया है और उन्हें समुद्र में न जाने की चेतावनी दी गई है।गौरतलब है कि गर्म समुद्री हवाओं की वजह से कम दबाव वाले क्षात्रे ने सोमवार को डिप्रेशन का रूप ले लिया और मंगलवार सुबह तक चक्रवात में तबदील हो गया है। इस चक्रवात का नाम 'वायु' रखा गया है, जो की भारत द्वारा दिया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार तक 'वायु' तूफान अपने चरम पर होगा और इसकी रफ्तार 135 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की होगी। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक केरल तट, लक्षद्वीप और उससे लगे दक्षिणपूर्व अरब सागर में नहीं जाने की सलाह दी गई है। विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के मुताबिक, 11 जून को लक्षद्वीप और पूर्व-मध्य अरब सागर में ऊंची-ऊंची लहरें उठने की संभावना है।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top