News

शाहीन बाग के लोगों को अमित शाह ने कहा- दिक्‍कत है तो आकर मिले

दिल्ली चुनाव (Delhi Election) के नतीजे आ चुके हैं और 16 फरवरी को सरकार भी बनने वाली है, लेकिन चुनाव के पहले शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में जो धरना शुरू हुआ था वो अब भी जारी है।

नई दिल्ली, 14 फरवरी: दिल्ली चुनाव (Delhi Election) के नतीजे आ चुके हैं और 16 फरवरी को सरकार भी बनने वाली है, लेकिन चुनाव के पहले शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में जो धरना शुरू हुआ था वो अब भी जारी है। प्रदर्शनकारी अब भी नागरिकता कानून वापस लेने की मांग पर अड़े हैं। इस बीच गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) का शाहीन बाग पर बयान सामने आया है। एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में अमित शाह ने कहा कि नागरिकता कानून को लेकर जो भी दिक्कत है, लोग तीन दिन के अंदर आकर मुझसे मिलें और वो लोगों से चर्चा करने को तैयार हूं।

नागरिकता संशोधन कानून यानि CAA के खिलाफ दिल्ली के शाहीनबाग में प्रदर्शन अब भी जारी है। पिछले साल 15 दिसंबर को विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ था और अब दो महीने बाद भी विरोध प्रदर्शन चल रहा है। प्रदर्शनकारी CAA को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। वो इस मुद्दे पर पीछे हटने को नजर नहीं आ रहे। उनके अंदर इस बात की नाराजगी भी है कि सरकार उनसे बातचीत की पहल नहीं कर रही है। लोगों को लगता था कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी धरना छोड़ देंगे। लोगों की आवाजाही का रास्ता खुल जाएगा, लेकिन ऐसा अब तक मुमकिन नहीं हो पाया है।

इलाके के आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान भी चाहते हैं कि केंद्र सरकार इस मुद्दे पर बातचीत की पहल करे। दिल्ली के चुनाव में भी बीजेपी ने शाहीन बाग को बड़ा मुद्दा बनाने की कोशिश की थी। खुद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अपनी चुनावी सभाओं में बार-बार शाहीनबाग का जिक्र कर रहे थे, लेकिन प्रदर्शन पर इसका कोई असर पड़ता नजर नहीं आया। हालांकि एक निजी चैनल के कार्यक्रम में अमित शाह ने अब इस मुद्दे पर बातचीत के संकेत जरूर दिये हैं। उन्होंने कहा, ''सीएए पर जिसको चर्चा करनी है, मेरे ऑफिस से समय मांगे, मैं तीन दिन के भीतर चर्चा करूंगा।''

प्रदर्शनकारियों से संवाद को लेकर अभी तक शून्यता की जो स्थिति दिख रही थी। वो अमित शाह के बातचीत करने के दिये गये संकेत से अब कम से कम खत्म होती नजर आ रही है। हालांकि बातचीत से ये मुद्दा किस हद तक हल होगा, ये बड़ा सवाल है। क्योंकि प्रदर्शनकारी जहां CAA वापस लेने की मांग कर रहे हैं तो अमित शाह भी ये साफ कर चुके हैं कि इसे वापस नहीं लिया जाएगा। वहीं नजरें सुप्रीम कोर्ट पर भी टिकी हैं, जहां शाहीनबाग मामले को लेकर 17 फरवरी को सुनवाई होनी है। इस मुद्दे पर कोर्ट पहले ही कह चुका है कि शाहीनबाग के प्रदशर्नकारी आम रास्ते को रोककर लोगों को तकलीफ नहीं दे सकते। उसने इस मामले को लेकर दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस को नोटिस भी जारी किया है।

यह भी पढ़ें : जीत के बाद आप के कार्यकर्ताओं ने अमित शाह से पूछा-करंट लगा क्या?


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top