News

आसमान से गिरा 15 किलो का विचित्र पत्थर, चमत्कार देखकर लोग हैरान

इन दिनों देश के कई इलाकों में बारिश और बाढ़ का कहर जारी है। बारिश और बाढ़ की चपेट में आने से अबतक 100 से ज्यादा लोगों की मौतें हो गई है। बिहार, असम और मेघालय में बाढ़ का प्रकोप सबसे ज्यादा है

Madhubani Stone

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 जुलाई): इन दिनों देश के कई इलाकों में बारिश और बाढ़ का कहर जारी है। बारिश और बाढ़ की चपेट में आने से अबतक 100 से ज्यादा लोगों की मौतें हो गई है। बिहार, असम और मेघालय में बाढ़ का प्रकोप सबसे ज्यादा है। इन राज्यों में तबाही मची है। बिहार में पिछले एक महीने से आसमानी वज्रपात जारी है। जिसकी चपेट में आने से कई लोगों की जाने जा चुकी है। वहीं बाढ़ से बेहाल बिहार के मधुबनी में बाढ़ से परेशान लोगों की परेशानी एक अजीबोगरीब दृश्य ने और बढ़ा दी है। जिले के लौकही थाना स्थित कौरयाही गांव के भगवानपुर चौड़ी में धान के खेत में अचानक आसमान से एक 15 किलो का पत्थर गिरा। उसके गिरने की आवाज लगभग पांच किलोमीटर तक सुनाई दी। माना जा रहा है कि यह पत्‍थर किसर दूसरे ग्रह का टुकड़ा है। य‍ह किसी उल्‍का से गिरा अवशेष भी हो सकता है। 

Madhubani Stone

ग्रामीणों की मानें तो खेत में आसमान से तेज आवाज के साथ पत्थर गिरा था और राम एकबाल मंडल के खेत में कुछ फीट नीचे धंस गया। यह दावा है कि पत्थर गिरने वाली जगह पर कुछ पल के लिए सफेद धुंआ देखा गया। पत्थर धंसने वाली जगह तत्काल गर्म पाई गई थी। पत्थर को लेकर लोगों तरह- तरह की चर्चाएं हैं। 

Madhubani Stone

कोई इसे भगवान का चमत्कार कह रहा है तो कोई एलियन से जुड़ी बातें बता रहा है। खेत से धंसे पत्थर को जब निकाला गया तो वहां करीब तीन फुट का गड्ढा बन गया।

पत्थर में चुंबकीय गुण भी है। इस पर चुंबक भी चिपक रहा है। इसलिए इसे जांच के लिए भेज दिया गया है। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने इसे पटना स्थित बिहार संग्रहालय में रखने की बात कही है।  

पत्थर का वजन तकरीबन 15 किलो बताया जा रहा है। इस घटना की जानकारी मिलते ही पत्थर को देखने के लिए आसपास के गांवों के लोगों की भीड़ जुटने लगी। भगवान का चमत्कार मानकर लोग पत्थर की पूजा अर्चना भी करने लगे।  कुछ लोगों ने तो पत्थर को एक पीपल वृक्ष के नीचे रखकर पूजा अर्चना शुरू कर दी। 

Madhubani Stone

वहीं वैज्ञानिकों का कहना है कि यह घटना उल्कापिंड गिरने की घटना हो सकती है। आसमान में चार्ज के कारण लाइटनिंग होता है जिसकी वजह से पत्थर मैग्नेटिक प्रॉपर्टी में बदल सकता है। एटमॉसफियर में इतनी हेवी बॉडी कहां से आई। यह जांच के बाद ही साफ हो सकेगा।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top