News

अयोध्या मामले की सुनवाई पूरी, सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला

सुप्रीम कोर्ट में ऐतिहासिक रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई पूरी हो गई है। बुधवार को इस सुनवाई का 40वां दिन और अंतिम दिन था।

प्रभाकर मिश्रा, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (16 अक्टूबर): सुप्रीम कोर्ट में ऐतिहासिक रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई पूरी हो गई है। बुधवार को इस सुनवाई का 40वां दिन और अंतिम दिन था। हिंदू पक्ष की ओर से निर्मोही अखाड़ा, हिंदू महासभा, रामजन्मभूमि न्यास की ओर से दलीलें रखी गईं तो वहीं मुस्लिम पक्ष की तरफ से राजीव धवन ने अपनी दलीलें रखीं। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।

अभी तक....

अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट में आज 40वें दिन की सुनवाई हो रही है। आज शाम इस मामले की सुनवाई खत्म हो जाएगी। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने साफ कर दिया है कि सुनवाई बुधवार शाम पांच बजे खत्म हो जाएगी। आज की सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई काफी सख्त नजर आ रहे हैं। वह एक-एक मिनट के लेकर सख्त हैं। अबतक की सुनवाई में हिंदू और मुस्लिम पक्षकारों ने अपने-अपने पक्ष में कई दलीलें दीं।

40 दिन लगातार चली  अयोध्या मामले की सुनवाई। सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों की सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रखा। 

नक्शा फाड़ने पर मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन के खिलाफ अवमानना का केस करेगा हिंदू महासभा

- सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने नक्शे का कागज फाड़ दिया 

- राजीव धवन की हरकत से नाराज हुए CJI,कहा- अगर इस तरह की बहस हो रही है तो हमें उठकर यहां से चला जाना चाहिए

- फैसले से पहले अयोध्या केस में मध्यस्थता की कोशिशें भी तेज

- अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए मध्यस्थता पैनल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि मध्यस्थता से मामला सुलझने के बढ़े आसार

- अपनी याचिका वापस ले सकता है सुन्नी वक्फ बोर्ड

- विवादित जमीन से अपना दावा वापस ले सकता है सुन्नी वक्फ

बहुत हो चुका, आज 5 बजे तक खत्म करें सुनवाई- CJI रंजन गोगोई  

-निर्वाणी अखाड़ा की ओर से कहा गया है कि रामलला जन्मस्थान की सेवा का अधिकार उनका है। इसपर जस्टिस भूषण ने कहा कि लेकिन इलाहाबाद हाईकोर्ट ने निर्मोही अखाड़ा को सेवायायी माना है। इसपर जयदीप गुप्ता ने कहा कि वो दावा गलत है. इसी के साथ जयदीप गुप्ता की दलील खत्म हो गई।

-गोपाल सिंह विशारद की ओर से रंजीत कुमार ने कहा कि हिंदुओं की ओर से पूजा का अधिकार पहले मांगा गया था, लेकिन मुस्लिम रूल में हिंदुओं को पूजा के अधिकार मिलने में दिक्कत आई थी। हालांकि, जब ब्रिटिश रूल आया तो इस मामले में कुछ राहत मिली।

सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया कि आज सुनवाई पूरी होगी। बुधवार को जब सुनवाई शुरू हुई तो सभी पक्षकारों ने अपनी ओर से लिखित बयान अदालत में पेश किए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने इस दौरान किसी भी टोका-टाकी पर मनाही की है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा है कि अब बहुत हुआ, शाम 5 बजे तक इस मामले में पूरी सुनवाई पूरी होगी। और यही बहस का अंत होगा।

सबसे पहले रामलला के वकील एस वैद्यनाथन ने दलील रखनी शुरू की। वैद्यनाथन के पास 45 मिनट का समय था। जब 45 मिनट का उनका समय पूरा हुआ तब मुस्लिम पक्षकार के वकील राजीव धवन ने उन्हें टोका। तब चीफ जस्टिस गोगोई ने कहा कि अभी उनके पास 10 मिनट का और समय है क्योंकि कोर्ट की कार्यवाही देर से शुरू हुई थी। चीफ जस्टिस के इतना कहते ही कोर्ट में सब हंस पड़े।

आपको बता दें कि बुधवार को सर्वोच्च अदालत में हिंदू और मुस्लिम पक्षकार अपनी अंतिम दलीलें रख रहे हैं। हिंदू पक्ष की ओर से सभी पक्षकारों को अपनी दलील रखने के लिए 45-45 मिनट का समय दिया गया है, साथ ही मुस्लिम पक्ष की ओर से वकील राजीव धवन को एक घंटे का समय दिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट की सख्ती देखकर साफ है कि इससे अधिक समय किसी वकील को नहीं मिलेगा।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top